rc book online download kaise kare in hindi 2020

Rate this post

rc book online download kaise kare :-

RC book use info in Hindi :पहले के समय में संसाधन की कमी होने के कारण लोगों को अनेकों प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता था। आज आधुनिक जमाने में लोगों को अपने कार्यों को करने के लिए अनेकों प्रकार के संसाधन बड़ी ही आसानी से मिल जाते हैं।पुराने समय में कहीं पर भी आने जाने के लिए लोग बैलगाड़ी या फिर पैदल यात्रा करते थे। इन सभी कम संसाधनों की वजह से लोगों को काफी ज्यादा समय अपनी यात्रा में व्यतीत करना पड़ता था

उन्हें रास्ते में खाने-पीने की भी समस्याएं यात्रा के दौरान झेलनी पढ़ती थी। आज के समय में कहीं पर भी यात्रा करना बहुत ही सुगम हो चूका है और लोग कम दुरी या फिर एक सामान्य दूरी की यात्रा करने के लिए खुद के वाहन का इस्तेमाल करते हैं। आज लगभग देश के सभी परिवारों के पास अपना बाइक या फोर व्हीलर वाहन मौजूद होता ही है। ऐसे में अत्यधिक वाहन बड़ने लगे हैं, तो वाहन से संबंधित अनेकों प्रकार के नियमों को सरकार की तरफ से लागू किया गया।

आज हम इस लेख के माध्यम से आप सभी लोगों को बताने वाले हैं, कि कैसे आप अपने आरसी बुक को खो जाने की परिस्थिति में उसकी डुप्लीकेट प्रतिलिपि को डाउनलोड कर सकते हैं। आज के इस महत्वपूर्ण लेखकों कृपया आप सभी लोग बड़े ही ध्यान से पढ़ें, क्योंकि यदि आपके पास आप की आरसी बुक नहीं होगी, तो आपको यात्रा के दौरान अनेकों प्रकार की समस्याएं झेलनी पड़ सकती है।

वाहन के लिए आखिर आरसी बुक क्यों जरूरी है ? (Why RC book is important for vehicles in Hindi)


Information about RC book in Hindi : जिस प्रकार से हमें वाहन चलाने के लिए ड्राइवरी लाइसेंस , इंश्योरेंस आदि की आवश्यकता पड़ती है, उसी प्रकार हमें गाड़ी से संबंधित आरसी बुक की भी बेहद आवश्यकता पड़ती है। आरसी बुक की आवश्यकता हमें फोर व्हीलर से लेकर टू व्हीलर के वाहनों में पड़ती है।

आरसी बुक में अनेकों प्रकार की जानकारियां अपनी गाड़ी से संबंधित मिल जाती है जैसे कि :- गाड़ी का नंबर, गाड़ी के इंजन का नंबर, चेचिस नंबर और गाड़ी के ओनर से संबंधित सभी जानकारी।जब हम कोई भी और व्हीलर या टू व्हीलर वाहन खरीदने के लिए एजेंसी पर जाते हैं, तो हमें वहां वाहन खरीदने के बाद तुरंत आरसी बुक पंजीकरण करने के लिए एक आवेदन फॉर्म प्रदान कर दिया जाता है।

आवेदन फॉर्म को हम भरते हैं और फिर उसी एजेंसी में जमा करवा देते हैं और वह एजेंसी आरटीओ ऑफिस में आकर आवेदन फॉर्म को भेज देती है। आरसी बुक के माध्यम से पता चलता है, कि कौन सा वाहन कौन से आरटीओ ऑफिस के अंतर्गत किसके नाम से कौन सा वाहन जुड़ा हुआ है और इसमें आपका एड्रेस और आप से संबंधित सभी जानकारियां भी दर्ज होती है।

आपने देखा या सुना होगा, कि जब किसी भी वाहन की दुर्घटना हो जाती है या फिर कोई वाहन लावारिस स्थिति में मिलता है, तो ऐसे में आरसी रिकॉर्ड के अनुसार पुलिस कर्मियों को उसके ओनर का और उसके एड्रेस का पता चल जाता है। फिर इसकी सूचना उनके परिवार वालों को आसानी से प्रदान कर दी जाती है। आज के समय में प्रत्येक वाहन चालक के पास उसके वाहन का आरसी बुक होना अति आवश्यक है। आरसी बुक का फुल फॉर्म ( registration certificate ) होता है।

आरसी बुक खो जाने या फिर चोरी हो जाने एक परिस्थिति में जिसे हम कैसे दोबारा से प्राप्त कर सकते हैं ? (lost or stolen RC book where to get in Hindi )


Where to get duplicate RC book in Hindi: यदि आपके वाहन का आरसी बुक खो जाता है या फिर कहीं पर चोरी हो जाता है, तो ऐसे में आप इसे दोबारा से बड़ी ही आसानी से प्राप्त कर सकते हैं, आपको इसके प्रति कोई भी परेशान होने की आवश्यकता नहीं है। आप अपनी आरसी बुक को ऑफलाइन या फिर ऑनलाइन तरीके से बड़ी ही आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। आइए आगे जानते हैं, ऑनलाइन रूप में आरसी बुक को प्राप्त करने के लिए आपको क्या करना होगा और ऑफलाइन मोड में आरसी बुक को प्राप्त करने के लिए क्या करना होता है।

ऑफलाइन तरीके से आरसी बुक कैसे प्राप्त करें ? (How to get offline mode RC book in Hindi)


WHERE TO GET OFFLINE MODE RC BOOK IN HINDI : ऑफलाइन मोड में आपको आरसी बुक को प्राप्त करने के लिए सबसे पहले कुछ आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी, जो इस प्रकार के हो सकते हैं।

डुप्लीकेट आरसी बुक बनवाने के लिए लगने वाले कुछ आवश्यक दस्तावेज (required documents for making duplicate of RC book in Hindi ) :-

सबसे पहले आपको अपने आरसी बुक खो जाने या फिर चोरी हो जाने की परिस्थिति में इसकी शिकायत आपको अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में कर देनी है और इसका f.i.r. प्राप्त कर लेना है।

  • आपको अपने स्थाई निवास प्रमाण के रूप में एक वोटर आईडी कार्ड या बिजली का बिल या राशन कार्ड का भी इस्तेमाल करना पड़ेगा।
  • अपनी सामान्य और साधारण भाषा में लिखा हुआ, खुद का एक शिकायत एप्लीकेशन फॉर्म। इस एप्लीकेशन में आप लिख सकते हैं कि आपका आरसी बुक चोरी हो गया है या फिर कहीं पर गुम हो चुका है, ऐसे में हम अपने आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी प्राप्त करना चाहते हैं। इसी प्रकार से आपको थोड़ा और विस्तार से और सरल शब्दों में अपने एप्लीकेशन फॉर्म को अपने हाथों से लिखना है।
  • इसके अतिरिक्त आपको एक अलग से एप्लीकेशन सब-डिविजनल ऑफीसर के नाम भी लिखना होगा, जिसमें आप अपनी समस्याओं के बारे में उन्हें बता सकते हैं।

किस प्रकार से हम ऑफलाइन तरीके से अपने आरसी बुक को प्राप्त कर सकते हैं ? (How to make duplicate RC book in offline mode in Hindi)


अगर आप ऑफलाइन प्रक्रिया के माध्यम से अपना आरसी बुक बनवाना चाहते हैं, तो नीचे आप हमारे द्वारा बताए गए प्रक्रिया का पालन कर सकते हैं और इसे आसानी से दोबारा से प्राप्त कर सकते हैं।

  • Step . 1 आप जिस भी राज्य में रह रहे हो सबसे पहले आपको उस राज्य की पुलिस की आधिकारिक वेबसाइट के बारे में पता करना है और फिर वहां आप बड़ी आसानी से बिना थाने के चक्कर लगाए अपनी आरती बुक की रिपोर्ट दर्ज करवा कर इसकी कॉपी प्रिंट कर सकते हैं।
  • Step . 2 आप चाहे तो अपनी नजदीकी पुलिस थाने में भी जाकर आरसी बुक चोरी हो जाने या गुम हो जाने की रिपोर्ट दर्ज करवा कर उसकी कॉपी प्राप्त कर सकते हैं।
  • Step . 3 इस प्रक्रिया के बाद आपको अपने नजदीकी आरटीओ या फिर एआरटीओ के कार्यालय के बारे में पता करना है और उसके बाद वहां से आपको फॉर्म 26 प्राप्त करना है। आप चाहे तो फॉर्म 26 को ऑनलाइन भी डाउनलोड कर सकते हैं और इसे डाउनलोड करने के लिए आप हमारे द्वारा बताए गए इस लिंक https://vahan.nic.in/nrservices/faces/forms/form26.pdf का सहारा ले सकते हैं।
  • Step . 4 अब इस फॉर्म को आप को बड़े ही ध्यान पूर्वक से पढ़ना है और इसमें आपको अपनी गाड़ी से संबंधित एवं अपने आप से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी को भरना होगा।
  • Step . 5 इस काम में आपको कुछ आवश्यक दस्तावेज भी संलग्न करने पड़ सकते हैं और यह सभी जैसे कि :- आधार कार्ड, पैन कार्ड, एलआईसी की कॉपी आदि भी दस्तावेज के रूप में कार्य कर सकते हैं।
  • Step . 6 आरसी बुक से संबंधित फॉर्म 26 भरने एवं इसमें मांगे जा रहे दस्तावेजों को संलग्न करने के अतिरिक्त आपको अपना फोटो भी इसमें अटैच करना है। याद रहे आपको अपने उसी पते का एड्रेस प्रूफ संलग्न करना है जिस पते पर आपका आरसी बुक पहले से बना हुआ था, यदि आप ऐसा नहीं करते हैं, तो ऐसी परिस्थिति में आपका आरसी बुक दोबारा से नहीं बनेगा।
  • Step . 7 इतनी प्रक्रिया हो जाने के बाद आपको अपने नजदीकी संबंधित विभाग में जाकर आवश्यक फीस का भुगतान करके अपना आवेदन फॉर्म जमा कर देना है।
  • Step . 8 अब यदि आपका वाहन कमर्शियल है, तो इस परिस्थिति आपको अपने नजदीकी नोटरी के साथ जाकर हलफनामा बनवाना है और उसके बाद इसे सबमिट करना है।
  • Step . 9 इतना करने के बाद आपको अपने रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी के अधिकारी के पास जाना है और उसके समक्ष प्रस्तुत होना है।
  • Step . 10 इतनी प्रक्रिया हो जाने के बाद आपका डुप्लीकेट आरसी आसानी से प्राप्त हो जाता है।

किस प्रकार के हम ऑनलाइन रूप में आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी प्राप्त कर सकते हैं ? (rc book online download kaise kare in hindi )

यदि आप कहीं पर जाना नहीं चाहते हैं और घर बैठे ही अपने खोए हुए या फिर चोरी हो गए आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी को प्राप्त करना चाहते हैं, तो ऐसे में आप परेशान मत होइए हमारे द्वारा बताए गए ऑनलाइन स्टेप को फॉलो करके अपने आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

  • Step . 1 सबसे पहले आपको अपने ब्राउज़र में या अपने स्मार्टफोन में डिजी लॉकर एप्लीकेशन या वेबसाइट को खोल लेना है। अगर आपका खाता डिजी लॉकर में नहीं बना है, तो इसे आप बनाइए या फिर आपका खाता है, इसमें पहले से ही मौजूद है, तो इसे ओपन कर ले।
  • Step . 2 डिजी लॉकर में अपने अकाउंट के यूजर आईडी और पासवर्ड की मदद से इसमें आप लॉग इन कर ले।
  • Step . 3 जब आपका सफलतापूर्वक डिजिलॉकर ओपन हो जाता है, तब आपको इसका डैशबोर्ड दिखाई देता है। आपको यहां पर दो विकल्प दिखाई देंगे पहला विकल्प आपको “issued documents” और दूसरा विकल्प आपको “uploaded documents” का मिल जाता है। इसमें से आपको पहले विकल्प का चयन करना है।
  • Step . 4 इस विकल्प पर आपने जितने भी डॉक्यूमेंट पहले से सुरक्षित किए होंगे उनकी एक सूची दिखाई देगी। अगर आपको नीचे एक “check partner section” नामक विकल्प दिखाई देगा, इस पर आपको क्लिक कर देना है।
  • Step . 5 अब इतना करने के बाद आपके सामने दो नए ड्रॉप बॉक्स के विकल्प दिखाई देंगे। पहला विकल्प आपको “partner name” का मिल जाता है, इस पहले वाले विकल्प में आपको “ministry of road transport and highways Government of India” का चयन कर लेना है। अब दूसरे विकल्प में आपको “document type” का बॉक्स मिल जाता है, इस वाले विकल्प में आपको “registration of vehicle” का चयन कर लेना है।
  • Step . 6 अब आगे के चरणों में आपके सामने एक नया पेज खोलकर आएगा और यहां पर आपका अपना नाम पहले से ही दर्ज़ दिखाई देगा। इसमें आपको अपने पिता या पत्नी या फिर पति का नाम लिखना है। इसके बाद आपको अपनी गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर एवं चेचिस नंबर भी इस फॉर्म में दर्ज करना है।
  • Step . 7 यहां पर पूछी जा रही सभी जानकारियों को बड़े ही ध्यान पूर्वक करने के बाद आपको आगे “get document” के विकल्प पर क्लिक कर देना है।
  • Step . 8 जाने के बाद आपके सामने एक पीडीएफ डाउनलोड करने का विकल्प आएगा, इस पर आपको क्लिक कर देना है। इतना करने के बाद आपका ओरिजिनल आरसी बुक का डुप्लीकेट कॉपी आसानी से डाउनलोड हो जाता है।
  • Step . 9 जैसे ही आपके आरसी बुक का डॉक्यूमेंट डाउनलोड हो जाता है, वैसे ही अगले चरण में आपके सामने एक नया विकल्प “save document link” आ जाएगा इस पर आपको क्लिक कर देना है। इस पर क्लिक करने के बाद आपका आरसी बुक digilocker में सुरक्षित हो जाता है और फिर इसे आप चाहे जब दोबारा – तिबारा से डाउनलोड कर सकते हैं।

आरसी बुक बनवाने के फायदे क्या-क्या हो सकते हैं ? ( Benefit of RC book in Hindi )

वैसे तो आरसी बुक बनवाने के अनेक फायदे हैं, परंतु उनमें से कुछ फायदों के बारे में इस प्रकार से हमने बताया है।

  • यदि आपका कहीं पर भी दुर्घटनाग्रस्त या फिर चोरी हो जाता है, तो ऐसी परिस्थिति में आरसी बुक की सहायता से आप अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में एफ आई आर दर्ज करवा सकते हैं।
  • अगर आपने अपने वाहन का इंश्योरेंस करवा रखा है और आपका वाहन दुर्घटनाग्रस्त या चोरी हो जाता है, तो ऐसी परिस्थिति में आप आरसी बुक की सहायता से इंश्योरेंस से मिलने वाले लाभ को प्राप्त कर सकते हैं।
  • यातायात से संबंधित जितने भी प्रकार के नियम हैं और उन सभी नियमों का पालन करने के बाद में अपने वाहन का आरसी बुक भी बनवाना चाहिए।
  • यदि आप ट्रैफिक पुलिस के चालान और उनके नियमों के उल्लंघन करने के जुर्म में किसी भी प्रकार का जुर्माना नहीं भरना चाहते हैं, तो ऐसी परिस्थिति में आप अपने वाहन की आरसी बुक अवश्य बनवाएं।
  • आरसी बुक के अंतर्गत गाड़ी से संबंधित सभी प्रकार की जानकारियां दर्ज की जाती है जैसे कि :- गाड़ी का नंबर, गाड़ी के इंजन का नंबर और गाड़ी का चेचिस नंबर एवं गाड़ी का कौन है और उसका क्या एड्रेस है, इसका भी जानकारी आरसी बुक में मौजूद मिल जाता है।
  • गाड़ी चोरी हो जाने के प्रति में पुलिस आपकी सहायता आपके आरसी बुक के जरिए कर सकती है।

निष्कर्ष :-

वाहन के सभी कागजातों में आरसी बुक भी महत्वपूर्ण है।आपका आरती बुक हो जाता है या फिर चोरी हो जाता है, तो आपको परेशान नहीं होना चाहिए बल्कि आपको धैर्य पूर्वक से हमारे द्वारा बताए गए चरणों का पालन करके इसे दोबारा से कर बैठे या फिर संबंधित विभाग में जाकर प्राप्त कर सकते हैं। उम्मीद है, कि हमारे द्वारा बताए गए इस लेख में जानकारी हो आप बड़े ही अच्छे तरीके से समझ चुके होंगे और अब आपको आगे इस विषय में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होगी।

FAQ :

प्रश्न: आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी प्राप्त करने के लिए हमें कौन-कौन सी जानकारी देनी होती है ?

उत्तर :- आपको सबसे ज्यादा जरूरी जानकारी आपके विकल का नंबर और आपके विकल के चेचिस का नंबर चाहिए होती है और इसके अतिरिक्त आपका नाम आरसी बुक में आप के आधार कार्ड के नाम के अंतर्गत दर्ज होना चाहिए।

प्रश्न: आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी को डीजी लॉकर के माध्यम से प्राप्त करते हैं, तो क्या हमें इसके लिए कोई अतिरिक्त शुल्क देना होता है ?

उत्तर :- जी बिल्कुल भी नहीं आपको कोई भी अतिरिक्त शुल्क नहीं चुकाना होगा।

प्रश्न: ट्रैफिक नियमों के अंतर्गत क्या आरसी बुक सभी वाहन चालकों के पास होनी आवश्यक है ?

उत्तर :- जी हां वाहन चालकों को आरसी बुक बनवाना आवश्यक है, क्योंकि ट्रैफिक नियम के अंतर्गत ही मान्य होता है।

प्रश्न:- क्या कोई भी वाहन चालक आरटीओ ऑफिस के अंतर्गत जाकर भी अपने आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी को प्राप्त कर सकता है ?

उत्तर :- जी हां कोई भी वाहन चालक बड़ी ही आसानी से आरटीओ ऑफिस में जाकर आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी को प्राप्त कर सकता है।

प्रश्न: क्या आरसी बुक को हम ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनो ही तरीकों के माध्यम से इस की डुप्लीकेट कॉपी को प्राप्त कर सकते हैं ?

उत्तर :- जी हां आप बड़ी ही आसानी से ऑफलाइन और ऑनलाइन आरसी बुक की डुप्लीकेट कॉपी को प्राप्त कर सकते हैं।

how to use digilocker app in hindi | 2020

Share on:

मेरा नाम Deepak Yadav है। मैं इस Kaisekarehelp.com Blog और Kaise kare help youtube चैनल का Founder हूँ। हमारा इस kaisekarehelp.com Blog को बनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषी लोगों को Internet से जुड़ी जानकारी प्रदान करवाना है। यहाँ आपको शिक्षा, तकनिकी, कंप्यूटर और मेक मनी से जुड़ी हर तरह की जानकारी अपनी मातृ भाषा Hindi में मिलने वाली है।

Leave a Comment