pin code kya hota hai – पिन कोड क्या होता है?

PIN Code Kya Hota Hai ये सवाल सामान्य तौर पर लोगों की जहन में आता है, क्योंकि जब भी किसी सामान को डाक द्वारा भेजते है, तो पिन कोड की विशेष रुप से आवश्यकता होती है, क्योंकि ये एक ऐसा यूनिक कोड होता है जो Postal Department किसी इलाके विशेष रूप से प्रदान किया जाता है,

क्योंकि बहुत से गांव और शहर ऐसे जिनके नाम में भिन्नता नहीं है, जिस कारण सही स्थान पर सामान को बहुत दिक्कत आती थी। लेकिन PIN Code या ZIP Code के आने से काफी हद स्लोव हुयी है। क्योंकि पिन कोड का उपयोग करके किसी भी एड्रेस को बहुत आसानी से फाइंड किया जा सकता है।

इसलिए आज के समय मे PIN Code का एक विशेष महत्व है। लेकिन अभी बहुत से लोग है, जो पिन कोड के बारे में उचित जानकारी नहीं रखते है। लेकिन अगर आपहमारे साथ आर्टिकल में अंत तक बने रहते है। तो हम आशा करते है कि आपको पिन कोड से जुड़े सभी सवालों के उत्तर मिल जाएंगे। तो चलिए शुरू करते है –

पिन कोड क्या होता है?

PIN Code या Zip Code एक छः अंकीय यूनिक कोड होता है, जो कि विशेष रूप किसी क्षेत्र या इलाके को प्रदान किया जाता है, जो कि डाक सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए Postal Department द्वारा जारी किया जाता है।

क्योंकि Pin Code के माध्यम किसी भी एड्रेस पर बहुत आसानी से पहुंचा जा सकता है और यही कारण की बढ़ते ऑनलाइन शॉपिंग के जमाने में पिन कोड का महत्व और भी बढ़ गया है। क्योंकि ऑनलाइन शॉपिंग के समय किसी भी प्रोडक्ट की डिलीवरी करवाने के लिए एड्रेस भरते समय पिन कोड का भरना अनिवार्य होता है।

इन सब के अलावा आपको बता दें कि भारत से पोस्टल सर्विस को बेहतर बनाने के लिए 9 Regions मैजूद है। जिसमें से 8 Geographical Regions है और 1 Regions आर्मी पोस्टल सर्विस के लिए सुनिश्चित किया गया हैं।

इसे भी पड़े – upi kya hai | upi kaise use kare

पिन कोड का इतिहास

अगर भारत में पिन कोड के इतिहास की बात करें? तो पिन कोड को सर्वप्रथम 15 अगस्त 1972 को समय के Additional Secretary श्री राम भीकाजी वेलंकार द्वार उपयोग में लाया गया था। जिससे Mail डिलीवरी करने में Incorrect Address की प्रॉब्लम से छुटकारा मिल सके।

पिन कोड की फुल फॉर्म

वैसे तो PIN Code का नाम आते ही जहन में छः अंकीय कोड आ जाता है, लेकिन PIN Code एक शार्ट फॉर्म है, ये आप शायद जानते होंगे और इसकी फुल फॉर्म Postal Index Number होती है और हिंदी में इसे डाक सूचकांक संख्या कहते है।

पिन कोड कैसे पता करें ?

पिन कोड कैसे पता करें

अगर आप किसी नए शहर या क्षेत्र में आय है या फिर अन्य किसी कारण से आपको को किसी भी क्षेत्र के पिन कोड की आवश्यकता पड़ती है। लेकिन आप वहां का PIN Code नहीं जानते है। तो इसके लिए एक ऑनलाइन मेथड है, जिसको फॉलो करके कोई भी व्यक्ति बहुत आसानी से किसी भी जगह का पिन कोड पता कर सकता है। जिसके बारे में नीचे Step By Step बताया गया है।

Step.1 – आपको किसी भी क्षेत्र का PIN Code पता करने के लिए आपको सबसे पहले Pin Code Search Website पर जाना है।

Step.2 – जिसका Home Page आपकी स्क्रीन पर खुल जायेगा। जहां आपको सबसे पहले State का चयन करना है।

Step.3 – उसके बाद आपको अगली स्टेप में डिस्ट्रिक्ट का चयन करना है।

Step.4 – अब आपको Select A Alphabet में सभी स्थानों के अल्फाबेट नजर आएंगे। जिसमें से आपको उस स्थान के पहले अल्फाबेट का चयन करना है। जिसका आप पिन कोड प्राप्त करना चाहते है।

Step.5 – इन सभी स्टेप को सही प्रकार फॉलो करने के बाद आपके सामने अल्फाबेट से रिलेटेड सभी नजदीकी जगहों के नाम प्रदर्शित होंगे। जिसमें से आपको उस जगह का चयन करना है, जिसका आप PIN Code ज्ञात करना चाहते है।

Step.6 – उस जगह का चयन करते ही आपके सामने चयनित की गयी लोकेशन का Pin Code सामने आ जायेगा। जिसे आप उपयोग में ला सकते हैं।

pin code kya hota hai से संबंधित कुछ जरूरी सवाल और उनके जबाब

भारत में कितने पोस्टल जोन है?

भारत में मुख्यतया 9 पोस्टल जोन है, जिनमें 8 भौगोलिक दृष्टि से सुनिश्चित किये गए हैं तथा एक आर्मी डाक सेवाओं के लिए सुनिश्चित किया गया है।

पिन कोड का कौन अंक पोस्टल जोन की पुष्टि करता है?

पिन कोड का पहला डिजिट पोस्टल जोन की पुष्टि करता है।

पिन कोड का कौन सा अंक डिस्ट्रिक्ट को प्रदर्शित करता है?

पिन कोड के स्टार्टिंग के तीन अंको को देखकर पता किया जा सकता है। कि डाक कौन से डिस्ट्रिक्ट की है।

क्या पूरे भारत में पिन कोड 6 अंको के ही होते हैं?

जी हां! पूरे भारत में पिन कोड केवल 6 अंको के ही होते है और हर क्षेत्र का पिन कोड यूनिक डिजिट का होता है।

भारत में पिन कोड का इतिहास क्या है?

भारत में पिन कोड का उपयोग सर्वप्रथम 15 अगस्त 1972 में श्री राम भीकाजी वेलंकार द्वारकिया गया था। यही इसका इतिहास है।

निष्कर्ष –

आज हमारे द्वारा इस आर्टिकल में pin code kya hota hai और उससे जुड़े बहुत से मुख्य बिंदुओं के बारे में विस्तार से बताया गया। इसलिए अगर आप भी नयी – नयी रोचक जानकारीयों के बारे में जानने की इच्छा रखते है, तो आपको इस आर्टिकल में बतायी गयी इनफार्मेशन भी काफी पसंद आयी होगी। इसके अलावा अगर आप पिन कोड से जुड़ी कोई विशेष जानाकरी प्राप्त करना चाहते है या फिर आर्टिकल में कोई सुधार या बदलाव चाहते हैं। तो कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं। हमारी टीम द्वारा आपकी कमेंट पर जल्द से जल्द प्रतिउत्तर प्रदान किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.