eRupi Kaise use Karen?। कैसे डाउनलोड करें? |2021

हम आपको अपने इस लेख में eRupi Kaise use Karen?, इस विषय पर विस्तार पूर्वक पर जानकारी प्रदान करने वाले हैं। हमारे देश की सरकार और हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने के लिए दिन प्रतिदिन पहले से और भी बेहतर तरीके लेकर आ रहे है। दोस्तों माननीय प्रधानमंत्री जी ने 2 अगस्त को एक वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से एक नया पेमेंट कंसेप्ट लॉन्च किया हुआ है और

इसके साथ ही हम आपको eRupi क्या है ? एवं e-Rupi की लॉन्च डिटेल?, इससे भी संबंधित विस्तार पूर्वक से इसी लेख में जानकारी प्रदान करने वाले हैं। इस नए पेमेंट कंसेप्ट के जरिए देशवासियों को काफी ज्यादा फायदा होने वाला है और अगर आप भी इस नए यूनिक पेमेंट कंसेप्ट का इस्तेमाल करना चाहते हैं, तो आज के हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें और सरकार के इस नई सुविधा का लाभ उठाएं।

Table of Contents

ई-रूपी की लॉन्च डिटेल? 

न्यू डिजिटल  पेमेंट प्लेटफॉर्म का नामeRupi न्यू डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म
डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म को लांच कियामाननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी
डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने की डेट2 अगस्त वर्ष 2021
डिजिटल पेमेंट प्लेटफार्म को लांच करने का माध्यमवीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से
डिजिटल पेमेंट प्लेटफार्म  के लाभार्थीदेश का प्रत्येक नागरिक
डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने का उद्देश्यदेश में एक और नया स्वदेशी डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म को उपलब्ध करवाना और देशवासियों को सभी प्रकार की ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में बेहतर सुविधाएं प्रदान करना इसका मुख्य उद्देश्य है।
डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म को लांच किया गयागूगल के प्ले स्टोर पर और एप्पल के एप्स स्टोर पर उपलब्ध करवाया गया 

e>Rupi का फुल फॉर्म क्या है?

अब आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि आखिर e-रूपी का फुल फॉर्म क्या होता है और यह सवाल आपके लिए जानना भी बेहद आवश्यक है क्योंकि अगर आप इस नए पेमेंट इंटरफेस का इस्तेमाल करने वाले हैं तो आपको इसके बारे में पूरी जानकारी होनी ही चाहिए। तो चलिए हम आगे आपको e- ₹upi का इंग्लिश में फुल फॉर्म? और ईRupi का हिंदी में फुल फॉर्म क्या होता है?, इसकी जानकारी देते हैं, जो नीचे निम्नलिखित है।

  • eRupi का इंग्लिश में फुल फॉर्म – ‘Electronic rupees unified Payment interface’ होता है।
  • e-Rupi का हिंदी में फुल फॉर्म – ‘ इलेक्ट्रॉनिक रुपया एकीकृत भुगतान प्रणाली’ होता है। 

UPI ID kya hai|How to make upi ID in Hindi 2020

eRupi क्या है?

हमारे देश की सरकार में भीम यूपीआई के सफलता को ध्यान में रखते हुए एक नए और सबसे अलग भुगतान प्रणाली का निर्माण किया हुआ है। भारत के नए भुगतान प्रणाली का नाम eRupi रखा गया है। इसे भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम और वित्तीय मंत्रालय के द्वारा देशभर में डेवलप करके लॉन्च कर दिया गया है। इस एप्लीकेशन को स्वयं देश के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 2 अगस्त शाम को 4:00 बजे वर्ष 2021 के दिन लॉन्च किया हुआ है।य

ह नया पेमेंट इंटरफेस इसलिए सबसे अलग है, क्योंकि यह एक प्रकार से डिजिटल वाउचर की तरह काम करेगा और इसमें ना तो आपको इंटरनेट की और ना ही किसी के कांटेक्ट डिटेल की जरूरत पड़ेगी। 

आप इस नई भुगतान प्रणाली के जरिए डिजिटल पेमेंट को पूरा ना करके अपितु उसके जगह पर डिस्टल वाउचर का पेमेंट करके अपने आवश्यकता अनुसार भुगतान कर सकते हैं।अगर हम इसे आसान और सरल शब्दों में समझने का प्रयत्न करें,

तो मान लीजिए आप गैस सिलेंडर का भुगतान करना चाहते हैं, तो ऐसे परिस्थिति में आप को प्राप्त बाउचर की सहायता से आप अपने गैस सिलेंडर का भुगतान कर पाएंगे।इसके अंदर आपको एक बार पैसे अपलोड करने होंगे और फिर इसे बाउचर में कन्वर्ट करने के बाद आप अपने आवश्यकता के अनुसार  इसका इस्तेमाल कर पाएंगे।

आप अलग-अलग भुगतान के लिए अलग-अलग प्रकार के वाउचर का इस्तेमाल करेंगे और आप चाहे तो सामने वाले को सीधे वाउचर पेमेंट कर सकते हैं और बाउचर पेमेंट को प्राप्त करने वाला व्यक्ति भी उसका इस्तेमाल अपने भुगतान के लिए चाहे तो कर सकता है या फिर चाहे तो अपने बैंक अकाउंट से पैसे अपलोड करके उसे बाउचर में भी कन्वर्ट करके इस्तेमाल कर सकता है।

आप e-Rupi का इस्तेमाल बिना इंटरनेट के कनेक्टेड भी कर सकते हैं और सामने वाले को आपको केवल उसका क्यूआर स्कैनर करके पेमेंट कर देना है, बस।

अगर हम इसे फाइनेंशियल के शब्दों में समझने का प्रयत्न करें तो, ‘e₹upi एक पर्सनल स्पेसिफिक और परपज स्पेसिफिक पेमेंट सिस्टम है’ और इसका इस्तेमाल देश का हर एक नागरिक बिल्कुल निशुल्क में कर सकता है।

e-Rupi की जरूरत क्यों? 

सरकार ने अगर इस नए भुगतान प्रणाली का निर्माण किया है, तो इसके पीछे कोई ना कोई अवश्य महत्वपूर्ण जरूरत तो होगी ही। दोस्तों अभी से हम चले आपको और भी सरल और आसान शब्दों में समझाने का प्रयास करते हैं। उदाहरण के रूप में मान लीजिए कि अगर आपको सरकार में कृषि के लिए या फिर शिक्षा के लिए कोई स्कीम के अंतर्गत पैसे प्रदान किए हैं, तो ऐसे में वह पैसे सीधे हमारे बैंक खाते में आ जाते हैं और हम उन पैसों का अपने पर्सनल यूज़ के लिए इस्तेमाल कर लेते हैं। 

अब ऐसे में सरकार का जो मुख्य उद्देश्य आपको पैसे देने का था, वह तो पूरा नहीं हुआ अपितु उस पैसे का इस्तेमाल कहीं और किसी अन्य परपज के लिए कर लिया गया।अब वहीं पर e.Rupi के लॉन्च हो जाने से सरकार अपना मकसद पूरा कर पाएगी और साथ ही में जिस जरूरत के लिए सरकार आपको इस स्कीम के अंतर्गत पैसे मोरिया करवा रही है, आप उसी जरूरत को पूरा करने के लिए ही इसका इस्तेमाल कर पाएंगे। 

अगर सरकार शिक्षा के लिए स्कॉलरशिप दे रही है या फिर कोई स्कीम के अंतर्गत शिक्षा को बढ़ावा प्रदान करने के लिए स्टूडेंट को पैसे दे रही है या फिर किसी अन्य सरकारी योजना के अंतर्गत लोगों को पैसे खेती के लिए, व्यवसाय को शुरू करने के लिए, सोलर पैनल लगवाने के लिए, आवास के लिए या फिर कोई हेल्थ स्कीम के लिए पैसे दे रही है, तो वह पैसे आपको सीधे वाउचर के रूप में सिर्फ पार्टी कूलर उद्देश्य के आधार पर आपको पैसे प्राप्त होंगे। 

अब अगर आपको सरकार ने health-related कोई स्कीम के अंतर्गत पैसा दिया है, तो आप उस वाउचर का इस्तेमाल केवल हेल्थ परपज के लिए ही कर पाएंगे और वही अगर सरकार ने शिक्षा संबंधित भुगतान किया है, तो आप उन वाउचर का इस्तेमाल अपने फीस को कम करने के लिए या फिर किसी अन्य एजुकेशनल परपज के लिए इस्तेमाल कर पाएंगे। इस नए भुगतान प्रणाली को लांच करने का सरकार का सबसे मुख्य उद्देश्य केवल जिस कार्य के लिए लाभार्थियों को पैसे प्रदान किए जा रहे हैं, उनका इस्तेमाल केवल उन्हीं कार्यों के लिए करें ना कि अपने किसी अन्य पर्सनल काम के लिए।

e₹upi को किसने डेवलप किया है?

दोस्तों भारत सरकार ने इतने बड़े और इतने यूनिक कांसेप्ट के साथ एक नए पेमेंट सिस्टम को लॉन्च किया है, तो ई- आरयूपीआई को डेवलप करने वाले लोग कौन हैं? और इसे कौन एवं किसने डेवलप किया है?, यह भी जानने की जिज्ञासा लोगों के मन में काफी ज्यादा होगी और होना भी चाहिए क्योंकि इस प्लेटफार्म को लांच हो जाने के बाद लोगों को इसके प्रति और भी ज्यादा जानकारी जानने की जिज्ञासा जागृत हो रही है।

इस प्लेटफॉर्म को नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI), डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विसेज, मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर और नेशनल हेल्थ अथॉरिटी द्वारा डेवलप किया गया है। इससे जुड़े हुए सभी प्रकार के फाइनेंशियल वर्क रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के माध्यम से किया जाएगा। 

ई-रूपी कैसे वर्क करता है?

आपने डिजिटल वाउचर का तो इस्तेमाल किया ही होगा और आप इसके बारे में जानते ही होंगे फिर भी हम आपको उदाहरण के रूप में  पेटीएम गिफ्ट वाउचर का नाम याद दिलाते हैं। आप पेटीएम गिफ्ट वाउचर का इस्तेमाल पेटीएम के सभी प्रोडक्ट को इस्तेमाल करने के लिए या फिर पेटीएम के जरिए शॉपिंग करने के लिए कर सकते हैं।

अब ठीक उसी प्रकार से आप ई-रूपी इस्तेमाल करके बिना क्रेडिट कार्ड डेबिट कार्ड इंटरनेट बैंकिंग और इंटरनेट की सहायता से अपने वाउचर के जरिए पेमेंट का भुगतान कर पाएंगे।आप सामने वाले को फ्री ट्रेड s.m.s. या फिर क्यूआर कोड को स्कैन करके वाउचर के जरिए पेमेंट कर पाएंगे और वह सामने वाला व्यक्ति सेकंडो में ही आपकी पेमेंट को प्राप्त कर लेगा। ये कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस डिजिटल पेमेंट प्रणाली के आधार पर कार्य करता है और इसी के जरिए पेमेंट का भुगतान भी हो पाता है। 

ई-Rupi कौन-कौन से बैंक को सपोर्ट करता है? 

किसी भी प्रकार के पेमेंट को कंप्लीट करने के लिए हमें बैंक की आवश्यकता पड़ती ही है और अब चलिए हम आपको आगे इस यूनिक से पेमेंट प्लेटफॉर्म को कौन-कौन से बैंक सपोर्ट करते हैं या फिर यूं कहें कि कौन-कौन से बैंक के पार्टनर बन चुके हैं, इसकी जानकारी किस प्रकार से नीचे टेबल के माध्यम से आपको बताते हैं। टेबल में बताए गए सभी बैंक को सरकार की तरफ से पार्टनरशिप कर दी गई है और यह सभी अब इस प्लेटफार्म के साथ जुड़कर कार्य करने के लिए तैयार हैं।

Sr. No.Bank NameIssuerAcquirerAcquiring App / Entity
1Axis BankBharat Pe
2Bank of BarodaBHIM Baroda Merchant Pay
3Canara Bank NA
4HDFC BankHDFC Business App
5ICICI BankBharat Pe & PineLabs
6Indusind Bank NA
7Indian Bank NA
8Kotak Bank NA
9Punjab National BankPNB Merchant Pay
10State Bank of IndiaYONO SBI Merchant
11Union Bank of India NA

E-रूपी के कौन लोग इसके यूजर बन सकते हैं?

 वैसे तो इसका इस्तेमाल देश का हर एक नागरिक कर सकता है, परंतु मुख्य रूप से पेमेंट का सही उपयोग उसके उद्देश्य के आधार पर ही किया जाए इस परपज से इस एप्लीकेशन को डिजाइन किया गया है।

सरकार योजना के पैसों का सही इस्तेमाल लोग करें इसके लिए वे योजना के लाभार्थियों को इसे इस्तेमाल करने की सलाह देगी और साथ ही में कई प्राइवेट और सरकारी कंपनियां अपने कर्मचारियों को बोनस के रूप में दी जाने वाली धनराशि को वाउचर में कन्वर्ट करके देंगे, तो वह जिसके लिए देंगे उसका कर्मचारी इस्तेमाल उस कार्य को पूरा करने के लिए कर पाएगा।

फिर भी चलिए हम आपको थोड़ा बहुत पॉइंट के माध्यम से इसे कौन-कौन लोग इस्तेमाल कर सकते हैं या यूज कर सकते हैं, इसके बारे में जानकारी बताते हैं जो इस प्रकार के नीचे निम्नलिखित है।

  •  सरकार शिक्षा एवं अन्य क्षेत्र में वित्तीय राशि को लाभार्थी के सीधे बैंक खाते में ट्रांसफर करके इस वाउचर के जरिए प्रदान करेंगी अर्थात योजना के लाभार्थी एवं शिक्षा संबंधित क्षेत्र में पढ़ाई कर रहे स्टूडेंट्स सरकारी वित्तीय राशि का इस्तेमाल कर पाएंगे।
  •  प्राइवेट सेक्टर में हर एक छोटी बड़ी कंपनी अपने कर्मचारियों को बोनस या फिर अन्य वित्तीय सहायता यार इतनी धनराशि को किसी परपज के लिए अगर देगी, तो वह इस  वाउचरका इस्तेमाल करके देखिए और ऐसे में कर्मचारी एवं कोई भी कंपनी इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर पाएगी।
  • उद्योग के क्षेत्र में व्यापारी इस पेमेंट प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  •  हर एक छोटा बड़ा कारोबारी इस पेमेंट प्लेटफार्म का  इस्तेमाल कर सकता है।
  •  ग्राहकों को लुभाने के लिए हर एक छोटे बड़े दुकान का मालिक अपने ग्राहक को अपने यहां से ही कोई भी सामान खरीदने के लिए छोटा बड़ा गिफ्ट वाउचर पेमेंट वाउचर में कन्वर्ट करके ग्राहकों को दे सकता है।
  •  आवश्यकता के अनुसार हमारे देश का हर एक भारतीय नागरिक इस नए पेमेंट प्लेटफार्म का इस्तेमाल करने के लिए योग्य हैं। 

5G टेक्नोलॉजी क्या है। Bharat mein 5G kab launch Kiya Jayega.

ई-Rupi को कहां से और कैसे डाउनलोड करें?

अब तक आता है, कि हम ई-रूपी पेमेंट प्लेटफार्म को कहां से और कैसे डाउनलोड कर सकते हैं?, दोस्तों हम आपकी जानकारी के लिए बता दें, कि इस यूनिक से पेमेंट प्लेटफार्म को आप कुछ ही समय में गूगल के प्ले स्टोर से और एप्पल के ऐप स्टोर पर से जाकर डाउनलोड कर सकते हैं।

वर्तमान समय में एनपीसीआई के आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आप इसे डाउनलोड कर सकते हैं और अपने एंड्राइड ऐप में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं या फिर आप चाहे तो इसके आधिकारिक वेबसाइट पर भी जाकर आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

चलिए अब हम आपको आगे अपनी इस लेख में इसे डाउनलोड करने का स्टेप बाय स्टेप पूरा प्रोसेस बताते हैं. जो नीचे निम्नलिखित है। 

STEP 1. सबसे पहले आपको गूगल के प्ले स्टोर में चले जाना है और गूगल प्ले स्टोर का सर्च बॉक्स ओपन कर लेना है। 

STEP 2.अब इस सर्च बॉक्स में आपको ‘e-rupi digital payment’ लिखना है और फिर सर्च बटन पर क्लिक कर देना है।

STEP 3. अब आपके सामने एप्लीकेशन खुलकर आ जाएगी और आपको इस एप्लीकेशन पर क्लिक कर देना है।

STEP 4. अब आपके सामने ‘इंस्टॉल’ का एक विकल्प दिखाई देगा और आपको इस विकल्प पर क्लिक कर देना है।

STEP 5. अब इतनी प्रोसेस को पूरा करने के बाद भी यह एप्लीकेशन आपके फोन में बड़ी ही आसानी से डाउनलोड हो जाता है और आप इसका रजिस्ट्रेशन पूरा करने के बाद इस्तेमाल कर पाएंगे।

ध्यान दें – ‘अभी इस एप्लीकेशन को ना ही गूगल प्ले स्टोर से और ना ही एप स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। हमने अपने लेख में एप्लीकेशन प्ले स्टोर पर उपलब्ध हो जाने के बाद कैसे डाउनलोड करना है, इसका प्रोसेस लिखा है।

सरकार ने अभी इसे किसी भी प्लेटफार्म पर उपलब्ध करवाने की पुष्टि नहीं की है। अगर आप कहीं से कोई और एप्लीकेशन इसी नाम से डाउनलोड कर लेते हैं, तो आपके साथ फ्रॉड हो सकता है और आप इससे बचें। जैसे ही कोई अपडेट प्ले स्टोर पर इससे संबंधित आएगा तो हम आपको इस लेख में अवश्य बताएंगे’।

ई-रूपी में कैसे अकाउंट बनाएं?

इस एप्लीकेशन के अंदर अकाउंट बनाना बहुत ही आसान काम है और अभी तो वर्तमान समय में इसे किसी भी ऐप के प्लेटफार्म पर उपलब्ध नहीं करवाया गया है, परंतु शीघ्र ही यह आगे चलकर गूगल के प्ले स्टोर पर और एप्पल एप स्टोर पर उपलब्ध होने वाला है।

चलिए अब हम आपको e-रूपी डाउनलोड करने के बाद इसमें अपना अकाउंट कैसे बनाना है?। इसमें अकाउंट बनाने के लिए नीचे बताए गए आसान स्टेप को फॉलो करें।अगर आपका अकाउंट पहले से भीम यूपीआई में है, तो आपको अलग से इस एप्लीकेशन को इंस्टॉल करने की आवश्यकता नहीं होगी और आगे चलकर भीम यूपीआई ने इस एप्लीकेशन के सारे फीचर अपडेट हो जाएंगे।

STEP 1. इस एप्लीकेशन को डाउनलोड करने के बाद आपको इसे ओपन कर लेना है और आपको इसका एक नया सा इंटरफेस दिखाई देने लगेगा।

STEP 2. अब यहां पर आपको ईमेल आईडी और आपके बैंक में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर को दर्ज करने के लिए कहा जाएगा।

STEP 3. आपके बैंक खाते से जो मोबाइल नंबर पंजीकृत है, आपको वही मोबाइल नंबर यहां पर दर्ज करना होगा। अगर आप उसके जगह पर कोई और मोबाइल नंबर चेंज कर देंगे तो हो सकता है, कि आप इस सेवा को प्राप्त करने में असफल रहे। 

STEP 4. अब आपका बैंक आपके मोबाइल नंबर पर वेरिफिकेशन के लिए एक ओटीपी भेजेगा और आपको उस ओटीपी को एप्लीकेशन में दर्ज करके वेरीफाई कर लेना है।

STEP 5.  ओटीपी को वेरीफाई करने के पश्चात आपको आगे कुछ और निर्देश दिए जाएंगे और उन निर्देशों का पालन करने के बाद आपका अकाउंट इस एप्लीकेशन में सफलतापूर्वक से बन जाएगा और आप इसका इस्तेमाल कर पाएंगे। 

ई-रूपी को कैसे यूज करें? 

दोस्तों किस में सफलतापूर्वक अकाउंट बनाने के पश्चात आपको इसे इस्तेमाल करने का पूरा तरीका भी मालूम होना चाहिए और तभी आप इस नए यूनिक से पेमेंट प्लेटफार्म का इस्तेमाल करके अपने पेमेंट को पूरा कर पाएंगे। चलिए आगे जानते हैं, कि e-Rupi अपना अकाउंट बनाने के बाद आप इसका इस्तेमाल कैसे करेंगे?, जिसकी जानकारी इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित रुप में विस्तार पूर्वक से बताई गई है।

STEP 1. आपको सबसे पहले मोबाइल फोन में इस एप्लीकेशन को ओपन करना है और आप जिसके लिए और जिस कार्य हेतु पेमेंट करना चाहते हैं, उसका वाउचर क्रिएट कर लीजिए और वाउचर आप आसानी से एप्लीकेशन में दिए गए निर्देशों का पालन करके बना सकते हैं।

STEP 2. इस वाउचर के अंदर आपको किसके लिए वाउचर बनाया गया है?, कितने रुपए का वाउचर बनाया गया है?, किस परपज के लिए वाउचर बनाया गया है? और किस को वाउचर भेजना है?, उसकी सारी डिटेल वाउचर के अंदर मेंशन करना है।

STEP 3. अब आप सामने वाले के मोबाइल नंबर पर या फिर उसके डायरेक्ट ईमेल आईडी पर वाउचर सेंड कर सकते हैं।

STEP 4. आप इस वाउचर के क्यूआर को स्पेसिफिक एक्सेप्टिंग सेंटर पर बिना किसी क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग के जरिए रिडीम कर सकते हैं।

STEP 5. e-RUPI बेनेफिशरी को बिना किसी फिजिकल इंटरफ़ेस के डिजिटल सर्विसेज के लिए स्पॉन्सर्स करेगा।प्राप्त क्यूआर वाउचर को आप केवल उसी कार्य के लिए इस्तेमाल कर पाएंगे, जिसके लिए उसका निर्माण किया गया है ना की किसी अन्य कार्य को कर पाएंगे।

ईरूपी के वाउचर को रेडियम कैसे करें?  

अब चलिए हम आपको इस एप्लीकेशन के अंतर्गत मिलने वाले वाउचर को कैसे रिडीम करते हैं?, इसके बारे में जानकारी देते हैं और वाउचर को रिडीम करने के लिए नीचे बताए गए आसान स्टेप को फॉलो करें।

STEP 1. अगर आपको वाउचर प्राप्त है, तो  ऐसे में आपको सेवा प्रदाता आउटलेट पर ई-रूपी क्यूआर कोड या फिर प्राप्त s.m.s. को दिखाना होगा।

STEP 2. इसके बाद विक्रेता आपके क्यूआर कोड को या फिर s.m.s. को स्कैन करेगा।

STEP 3. अब एप्लीकेशन के लाभार्थी के बाद एक ओटीपी आएगा और आपको उस प्राप्त ओटीपी को सेवा प्रदाता के साथ साझा कर देना है।

STEP 4. सेवा प्रदाता आपके ओटीपी को वेरीफाई करेगा और अंतिम में जाकर ‘प्रोसीड’ के बटन पर क्लिक कर देगा।

STEP 5. इतनी प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आपका वाउचर आसानी से रिडीम हो जाता है और जिसके लिए इसका निर्माण किया गया है, उस क्षेत्र में आप अपने वाउचर का इस्तेमाल कर पाते हैं।

e-Rupi के टॉप फीचर्स कौन-कौन से हैं?

अगर भारत सरकार ने इस यूनिक से पेमेंट कंसेप्ट को लांच किया गया है, तो इसके कुछ टॉप फीचर्स भी होंगे, तो चलिए हम आपको इस एप्लीकेशन के कुछ टॉप फीचर्स के बारे में जानकारी दे देते हैं, जो इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित है। 

  • ई- आरयूपीआई कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस डिजिटल पेमेंट प्रणाली काफी ज्यादा पॉपुलर होने वाली है।
  • सेवा प्रदाता एवं सेवा प्राप्त करने वाले व्यक्ति के बीच किया पूरी तरीके से एक डिजिटल रिलेशनशिप बनाने का कार्य करेगा।
  • के यूजर के सारे पर्सनल जानकारी को पूरी तरीके से गोपनीय तरीके से रखा जाएगा अर्थात यह अपने यूजर की जानकारी को पूरी तरीके से कॉन्फिडेंशियल रूप में रखेगा।
  • इस एप्लीकेशन का इस्तेमाल करके इसके यूजर्स बिना इंटरनेट के जरिए s.m.s. और क्यूआर कोड के माध्यम से वाउचर पेमेंट भुगतान कर पाएंगे।
  •  सेवा का आदान प्रदान करने के लिए इसके यूजर डिजिटल वाउचर का इस्तेमाल कर पाएंगे।
  •  इस एप्लीकेशन के जरिए जिस किसी के लिए भी वाउचर जिस कार्य के लिए जारी किया जाएगा वह व्यक्ति उसी कार्य के लिए उस वाउचर को रिडीम कर पाएगा अर्थात इसमें उद्देश्य के लिए ही किसी भी प्रकार की ट्रांजैक्शन को रिडीम करने का काम किया जाएगा।
  • इस पेमेंट प्रणाली के जरिए भारत सरकार शिक्षा के क्षेत्र में या फिर किसी अन्य क्षेत्र में दिए जाने वाले फाइनेंशियल सहायता को वाउचर के रूप में प्रदान करेगी और उसका इस्तेमाल केवल उसी कार्य के लिए किया जाएगा, जिसके लिए उसके लाभार्थियों को उसे प्रदान किया गया है। इससे भारत सरकार अपने कार्यों और उद्देश्यों को पूरा करने के लिए और भी सक्षम बनेगी और डिस्टल भारत का सपना पूरा करेगी।

e-रूपी अन्य ऑनलाइन पेमेंट मोड प्लेटफार्म में क्या अंतर है ?

 दोस्तों आपने अब तक जितने भी डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल किया है, उन सभी के इस्तेमाल में अपने बैंक अकाउंट को इंटरलिंक करना पड़ता है और साथ ही में इंटरनेट की भी आवश्यकता है, उसके इस्तेमाल के लिए करनी पड़ती है।इसके इस्तेमाल में आपको ऐसा कुछ भी नहीं करना है और इसीलिए यह एप्लीकेशन अन्य पेमेंट प्लेटफार्म से काफी भिन्न है। चलिए कुछ और भी पॉइंट हम समझने का प्रयास करते हैं, जो इस एप्लीकेशन को अन्य पेमेंट मोड प्लेटफार्म से काफी ज्यादा डिफरेंट बनाती है। 

  • इस पेमेंट प्लेटफार्म का इस्तेमाल करने के लिए हमें अपने बैंक अकाउंट की आवश्यकता नहीं होती है।
  •  हम बिना इंटरनेट कनेक्शन के भी अपने ट्रांजैक्शन को कर सकते हैं।
  •  बिना किसी फिजिकल इंटरफेरेंस के इसमें आसानी से भुगतान किया जा सकता है।
  •  इस प्लेटफार्म में किसी परपज के लिए ही वाउचर के जरिए भुगतान किया जाता है ताकि उस भुगतान का कोई गलत इस्तेमाल या फिर किसी अन्य कार्य के लिए इस्तेमाल ना हो सके।
  • इस प्लेटफार्म के जरिए भारत सरकार भी अपने सभी फाइनेंशियल सुविधाओं को पूरा करने के सपने को साकार करेगी और लोगों के आवश्यकता अनुसार उन्हें लाभान्वित करेगी।
  • इसका इस्तेमाल बिल्कुल निशुल्क रूप में किया जाएगा।

ई-रूपी के इस्तेमाल के फायदे?

चलिए अब हम आपको इस नए पेमेंट प्लेटफार्म के कुछ इस्तेमाल करने के फायदों के बारे में जानकारी दे देते हैं, जो इस प्रकार से नीचे निम्नलिखित है।

  • इस एप्लीकेशन के इस्तेमाल के लिए किसी भी व्यक्ति के व्यक्तिगत जानकारी को कहीं पर भी दर्ज करने की आवश्यकता नहीं होगी और ना ही सामने वाले वाउचर प्राप्तकर्ता को भी अपनी जानकारी प्रदाता के साथ शेयर करने की आवश्यकता होगी।
  •  यह एप्लीकेशन अपने यूजर के सभी व्यक्तिगत जानकारी को पूरी तरीके से गोपनीय रखेगा और यह पूरी तरीके से स्वदेशी है।
  • अस्पतालों में बिल के भुगतान के लिए बिना कैश और बिना इंटरनेट कनेक्शन के वाउचर का इस्तेमाल करके भुगतान कर पाएंगे।
  • किसी भी कारपोरेट सेक्टर में कर्मचारियों के भलाई के लिए दिए जाने वाला बोनस, उनके किसी स्पेसिफिक लाभ के लिए वाउचर बनाकर दिया जाएगा, ताकि वह उस वाउचर का केवल उसी के लिए इस्तेमाल करें और अपने कार्य को आसान करें।

निष्कर्ष :-

आज के इस महत्वपूर्ण लेख में हमने आप सभी लोगों को eRupi Kaise use Karen?। e-रूपी कैसे डाउनलोड करें?, से जुड़े हुए सभी प्रकार के महत्वपूर्ण जानकारियों को विस्तार पूर्वक से बताया है और हमें उम्मीद है कि आपको आज का हमारा यह लेख पढ़कर किसी अन्य लेख को इस विषय से संबंधित जानकारी को प्राप्त करने के लिए पढ़ने की आवश्यकता नहीं होगी।

अगर आपको लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ एवं अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा करना ना भूले। लेख से संबंधित अगर आपके कोई भी सवाल या फिर कोई भी सुझाव है, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं।

FAQ :

Q: e-Rupi के जरिए बिना इंटरनेट भुगतान कैसे करें?

ANS :- इसमें क्यूआर और एसएमएस के जरिए बिना इंटरनेट की सहायता से भुगतान किया जा सकता है।

Q: eRupi को किसने लॉन्च किया है?

ANS :- इसे देश के माननीय मुख्यमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 2 अगस्त वर्ष 2021 को लांच किया है।

Q: क्या ई-रूपी कोई डिजिटल करेंसी है?

ANS :- जी बिल्कुल भी नहीं है, केवल एक अफवाह है।

Q: eRupi के यूजर की जानकारी को पूरी तरीके से गोपनीय रखा जाएगा?

ANS :- जी हां बिलकुल इसमें यूजर की जानकारी को पूरी तरीके से गोपनीय रखा जाता है और जानकारी को लीक होने का कोई भी खतरा नहीं है।

Q: ई-रूपी को कहां से डाउनलोड किया जा सकता है?

ANS :- इसे आप गूगल के प्ले स्टोर से और एप्पल के एप स्टोर से डाउनलोड कर सकते हैं।

Share on:
About Abhishek Maurya

मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं?, आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। धन्यवादGmail ID - [email protected]

Leave a Comment