Ut Full Form – यूटी का फुल फॉर्म क्या है

Ut Full Form भारत एक ऐसा देश है जिस के विभिन्न इलाकों को अलग-अलग भाग में विभाजित किया गया है। अपने भारत में विभिन्न प्रकार के राज्य और केंद्र शासित प्रदेश के बारे में सुना होगा। राज्य के अलावा केंद्र शासित प्रदेश वह जगह होता है जहां मुख्यमंत्री चुने जाते हैं यह राज्य से छोटा होता है आज इन सब के बारे में विस्तार पूर्वक समझने के दौरान ut full form के बारे में विस्तार पूर्वक चर्चा करने का प्रयास किया गया है।

ut full form जानना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि अंग्रेजी में केंद्र शासित प्रदेश को UT शब्द से संबोधित किया जाता है। अगर आप भारत के नागरिक हैं तो आपको इन सभी चीजों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी होनी चाहिए जिसके बारे में अच्छे से समझने के लिए हमारे इस लेख के साथ अंत तक बने रहे।

UT क्या है

UT का मतलब केंद्र शासित प्रदेश होता है। यह एक राज्य के रूप में देश में काफी अधिक महत्व रखता है। यहां राज्य की तरह मुख्यमंत्री होता है मगर राज्य की तरह इसे सभी प्रकार के अधिकार नहीं दिए जाते हैं। 

सरल शब्दों में हम यह कह सकते हैं कि कुछ ऐसे शहर है जहां की आबादी इतनी घनी है और वह इतना देश में महत्व रखता है कि उस जगह को चलाने के लिए एक व्यक्ति नियुक्त किया जाता है वह उस स्थान का मुख्यमंत्री होता है मगर वह स्थान एक राज्य जितना महत्त्व नहीं रखता है। 

UT को केंद्र शासित प्रदेश या संघ राज्य कहा जाता है। फिलहाल भारत में 8 केंद्र शासित प्रदेश हैं। जिनके नाम – लद्दाख, दमन और दिहू, अंडमान निकोबार द्वीपसमूह, लक्ष्वदीप, पांडिचेरी, चंडीगढ़, दादर और नागर, दिल्ली, और जम्मू कश्मीर। 

केंद्र शासित प्रदेश को कौन काबू करता है

जैसा कि नाम से ही पता चल रहा होगा केंद्र शासित प्रदेश को केंद्र काबू करता है अर्थात केंद्र शासित प्रदेश पर किसी भी तरह के मुख्यमंत्री का काबू नहीं होता यहां पर सीधे भारत सरकार या प्रधानमंत्री के द्वारा काबू किया जाता है। 

जैसा की आप यह जानते होंगे की किसी भी राज्य को चलाने के लिए विधानसभा का गठन किया जाता है और हर 5 साल पर उस विधानसभा में इलेक्शन करवाया जाता है। केंद्र शासित प्रदेश ऐसे शहर होते है जहां इलेक्शन करवाना संभव नहीं होता सरकार इन सभी जगहों पर सीधा नियंत्रण करती है प्रधानमंत्री सभी केंद्र शासित प्रदेश को नियंत्रण में रखने के लिए वहां एक उप राज्यपाल की नियुक्ति करते हैं। 

हमारे देश में मौजूद 9 केंद्र शासित प्रदेश में से 3 केंद्र शासित प्रदेश ऐसे हैं जहां के उपराज्यपाल ने वहां एक मुख्यमंत्री का गठन किया है वह मुख्यमंत्री सभी प्रकार के फैसले नहीं ले सकता एक राज्य का मुख्यमंत्री अपनी राज्य में होने वाली सभी प्रकार की चीजों के फैसले को लेता है मगर हमारे यहां 3 केन्द्र शासित प्रदेश से ऐसे हैं जहां मुख्यमंत्री है मगर वह सभी प्रकार के फैसले नहीं ले सकता उसके फैसले लेने की हद उपराज्यपाल के द्वारा निश्चित की जाती है। 

भारत के ऐसे 3 केंद्र शासित प्रदेश जहां मुख्यमंत्री होते हैं उनके नाम दिल्ली, पांडिचेरी और जम्मू-कश्मीर है। 

इसे भी जाने – SDM Meaning in Hindi – एसडीएम कौन होता है

राज्यपाल और उपराज्यपाल में क्या अंतर है

जैसा कि हमने आपको बताया किसी भी केंद्र शासित प्रदेश में किसी भी निर्णय को लागू करने के लिए उपराज्यपाल को नियुक्त किया जाता है। आपने भारत में राज्यपाल नाम को भी अवश्य सुना होगा, यह केंद्र सरकार द्वारा विधानसभा गठित एक राज्य में नियुक्त किया जाता है जो विषम परिस्थिति में राज्य सरकार को केंद्र सरकार के द्वारा दिए गए नियम पालन करने का आदेश देता है। एक विधानसभा गठित राज्य में राज्यपाल मुख्यमंत्री या राज्य सरकार के नियमों पर स्वीकृति जताने के लिए बाध्य होता है वह अपने नियम केवल विषम परिस्थिति में लागू करवा सकता है। 

दूसरी तरफ कुछ ऐसे स्थान हैं जहां केंद्र सरकार को सीधा नियंत्रण करना पड़ता है जिन्हें केंद्र शासित प्रदेश कहते हैं ऐसे कुल 9 प्रदेश हैं उनमें से तीन ऐसे प्रदेश है जहां पर मुख्यमंत्री को गठित किया जाता है मगर ऐसे स्थान पर एक व्यक्ति केंद्र सरकार के द्वारा नियुक्त किया जाता है जिसे उपराज्यपाल कहते हैं। उपराज्यपाल केंद्र शासित प्रदेश में होता है जहां मुख्यमंत्री की गठना की गई हो। केंद्र शासित प्रदेश में उपराज्यपाल केंद्र सरकार द्वारा गठित किया जाता है और यह केंद्र शासित प्रदेश के मुख्यमंत्री के द्वारा बनाए गए नियमों पर स्वीकृति जताने के लिए बाध्य नहीं होता उल्टा इन सभी प्रदेश में मुख्यमंत्री उपराज्यपाल के निर्देश अनुसाकार्य कार्य करता है। 

इस परिस्थिति को उदाहरण से समझाने का प्रयास करें तो हम यह कह सकते हैं कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल हैं मगर वह सभी प्रकार के नियम नहीं बना सकते उनके नियम पर स्वीकृति जताने का कार्य वहां के उपराज्यपाल का है उपराज्यपाल के निर्देश के अनुसार ही वह कोई कार्य कर सकते हैं। वहीं दूसरी तरफ भारत के जो विधानसभा गठित राज्य है वहां किसी मुख्यमंत्री को अपने राज्य में कोई नियम बनाने के लिए राज्यपाल की स्वीकृति की आवश्यकता नहीं होती। 

इसे पड़े – MRP Ka Full Form क्या होता है – एमआरपी का मतलब क्या होता है

यूटी का फुल फॉर्म क्या है? से संबंधित पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न एवं उनके उत्तर 

यहां पर हमने आप लोगों द्वारा पूछे जाने वाले यूटी का हिंदी में फुल फॉर्म क्या है? से संबंधित कई अन्य महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर दिए हुए हैं एक बार इन प्रश्नोत्तर को जरूर पढ़ें।

Q. केंद्र शासित प्रदेश क्या होता है?

केंद्र शासित प्रदेश एक ऐसा प्रतीत होता है जहां प्रसिद्ध है केंद्र सरकार या प्रधानमंत्री का नियंत्रण चलता है।

Q. केंद्र शासित प्रदेश का नेता कौन होता है?

जिस प्रकार किसी राज्य का नेता मुख्य मंत्री होता है उसी प्रकार किसी केंद्र शासित प्रदेश का मुख्य नेता उपराज्यपाल होता है जिसे केंद्र सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है।

Q. भारत में कुल कितने केंद्र शासित प्रदेश हैं?

भारत में कुल 9 केंद्र शासित प्रदेश हैं जिनके नाम – लद्दाख, दमन और दिहू, अंडमान निकोबार द्वीपसमूह, लक्ष्वदीप, पांडिचेरी, चंडीगढ़, दादर और नागर, दिल्ली, और जम्मू कश्मीर है।

Q. किस केंद्र शासित प्रदेश में मुख्यमंत्री है?

भारत के 3 केंद्र शासित प्रदेश में मुख्यमंत्री की नियुक्ति होती है जिसके नाम जम्मू कश्मीर, पांडिचेरी और दिल्ली है।

Q. केंद्र शासित प्रदेश की खासियत क्या है?

एक केंद्र शासित प्रदेश एक राज्य से भिन्न होता है एक राज्य का मुख्यमंत्री सभी प्रकार के नियम बना सकता है मगर केंद्र शासित प्रदेश का मुख्यमंत्री केवल उपराज्यपाल की स्वीकृति से ही किसी नियम को बना सकता है। इसके अलावा एक केंद्र शासित प्रदेश को पूरी तरह से केंद्र सरकार के द्वारा चलाया जाता है मुख्यमंत्री केवल कुछ भागों पर अपनी स्वीकृति जाता कर कुछ नियम बना सकता है।

निष्कर्ष

हमने अपने आज के इस महत्वपूर्ण लेख में आप सभी लोगों को Ut Full Form से संबंधित विस्तारपूर्वक पर जानकारी प्रदान की हुई है और हमें उम्मीद है कि हमारे द्वारा दी गई आज की यह महत्वपूर्ण जानकारी आपके लिए काफी ज्यादा उपयोगी और हेल्पफुल साबित होगी।

अगर आपको हमारी आज की यह जानकारी पसंद आई हो तो आप ही से अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूले ताकि आप जैसे ही अन्य लोगों को भी इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में आप के जरिए पता चल सके एवं उन्हें ऐसे ही महत्वपूर्ण लेख को पढ़ने के लिए कई और बार-बार भटकने की बिल्कुल भी आवश्यकता ना हो।

अगर आपके मन में हमारे आज के इस लेख से संबंधित कोई भी सवाल या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हो हम आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया का जवाब शीघ्र से शीघ्र देने का पूरा प्रयास करेंगे और हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को अंतिम तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आपका कीमती समय शुभ हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.