TRP Kya hai in Hindi Kaise calculate kare 2020

TRP Kya hai in Hindi : यदि आप टेलीविजन शो देखते हैं , तो उन से जुड़ा हुआ एक शब्द आपने जरूर सुना होगा वह शब्द है , TRP. आपने कभी ना कभी जरूर ध्यान दिया होगा , कि कभी कोई टीवी शो सबसे ज्यादा पॉपुलर होता है , तो कभी कोई टीवी शो सबसे ज्यादा लोगों द्वारा नहीं पसंद किया जाता है।

लेकिन हमारे मन में सबसे बड़ा प्रश्न यही होता है , कि आखिर न्यूज़ एजेंसी को यह कैसे पता चलता है , कि इस हफ्ते इस धारावाहिक को लोगों ने सबसे अधिक पसंद किया और अगले हफ्ते इस धारावाहिक को लोगों ने सबसे अच्छे पसंद किया।

हम अपने टेलीविजन पर कौन से शो देख रहे हैं , आखिर यह सब जानकारी न्यूज़ एजेंसी तक किस तरह से जाती है और किस तरह से यह पता किया जाता है , कि कौन से शो को सबसे ज्यादा लोग पसंद कर रहे हैं।

यदि आपके मन में भी ऐसा ही प्रश्न उठ रहे हैं , तो यह आर्टिकल पूरा जरूर पढ़ें इस आर्टिकल में हम TRP से जुड़ी हुई सारी जानकारी को आपके साथ साझा करेंगे और बताएंगे , कि TRP क्या है । Why TRP is an important FOR advertiser in Hindi टीआरपी किस तरह से काम करती है।

TRP क्या है? TRP Kya hai in Hindi

TRP full form in Hindi : टीआरपी का पूरा नाम टेलीविजन रेटिंग पॉइंट (Television rating point ) होता है । TRP हमें बताता है , कि टेलीविजन में कौन सा शो सबसे ज्यादा पॉपुलर है या इन दिनों में सबसे ज्यादा कौन से शो देखा जा रहा है।

इसके साथ ही टीआरपी हमें यह भी बताता है , कि लोग कितनी बार एक चैनल को देखते हैं और 1 चैनल में किसी खास प्रोग्राम को कितनी बार देखते हैं।

अब यदि आप सोच रहे हैं , कि आखिर टीआरपी का मुख्य उद्देश्य TRP purpose detail in Hindi क्या है। तो आपको बता दें कि असल में टीआरपी एडवरटाइजिंग एजेंसी को बहुत मदद करती है।

कोई भी एडवरटाइजिंग एजेंसी उसी शो में अपना ऐड दिखाना ज्यादा पसंद करेगी जिसे लोग ज्यादा देखते हैं टीआरपी के जरिए उन्हें यह पता चलता है कि किस शो में लोगों की ज्यादा दिलचस्पी है और देखते हैं।

TRP कैसे Calculate होती है?

TRP calculation formula in Hindi : टीआरपी के बारे में जानने के बाद आपके मन में यह प्रश्न भी उठ रहा होगा कि आखिर टीआरपी Calculate करने वालों को यह कैसे पता चल जाता है कि हम अपने टेलीविजन में इस वक्त कौन से शो देख रहे हैं और कैसे वह हर व्यक्ति के टेलीविजन पर नजर रख पाते हैं।

तो आपको बता दे कि भारत में टीआरपी को मेजर करने के लिए मुख्य रूप से दो एजेंसी हैं जिनमें से एक INTAM है और DART है।

DART का फुल फॉर्म दूरदर्शन ऑडियंस रिसर्च टीम है। टीआरपी को मापन करने वाली यह सबसे पुरानी एजेंसी है। जब भारत में टेलीविजन की दुनिया में सिर्फ एक ही चैनल दूरदर्शन हुआ करता था उस वक्त दूरदर्शन में सबसे पॉपुलर शो की रेटिंग को मापने के लिए यही एजेंसी आती थी।

इस एजेंसी का मुख्य Focus ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों के ऊपर होता है यह किसी व्यक्ति से उनके फेवरेट शो के बारे में प्रश्न करती है। इसके अलावा भी कई इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों के जरिए TRP की गणना करती है।

TRP मापने के दो Electronic Method

People meters

People meters भी एक टीआरपी मेजर करने का डिवाइस है , यह डिवाइस कुछ खास जगह पर लगाया जाता है या कुछ चुनिंदा घरों पर यह डिवाइस को इंस्टॉल किया जाता है।

इस डिवाइस में वह सभी जानकारी स्टोर होती है , जो टीवी चैनल पर चलती है यानी कि हम कौन सा शो देख रहे हैं वह सभी जानकारी TRP मापने वाली एजेंसी को इस डिवाइस के जरिए पता चलती है।

इस तरह से 1हजार या 2 हजार लोगों के यहां डिवाइस लगाकर एक छोटा सा सर्वे किया जाता है। यह सर्वे कितने लोगों के ऊपर किया जाएगा , यह मुख्य रूप से सर्वे एजेंसी के ऊपर निर्भर करता है।

picture matching

picture matching भी TRP मापने की एक तकनीकी है जिसमे डिवाइस टीवी पर चलने वाले शो की एक picture क्लिक करता है। इस तरह के कई सारे डिवाइस अलग अलग Picture क्लिक करते हैं।

फिर इन pictures को एक जगह मिलाकर यह देखा जाता है कि सबसे ज्यादा pictures किस शो की है। इस तरह से फिर TRP Calculate की जाती है।

TRP घटने बढ़ने का प्रभाव.

  • टीआरपी घटने बढ़ने का सीधा संबंध किसी चैनल की कमाई से होता है। जैसे मान लीजिए एक वक्त पर कलर्स टीवी पर कपिल शर्मा शो बहुत ही अधिक पॉपुलर था उसकी पॉपुलर जी इतनी ज्यादा थी , कि वह कई हफ्तों तक टीआरपी में सर्वश्रेष्ठ रहा था ।
  • जब किसी शो की टीआरपी पहले या दूसरे नंबर पर होती है , तो Advertiser भी उस शो पर अपना ऐड दिखाना चाहते हैं।
  • जब सो पर ऐड दिखाई देंगे उसी के जरिए ही किसी चैनल की कमाई भी होगी। यदि किसी चैनल के पास कई ऐसे शो हैं जो कि अच्छी खासी टीआरपी हासिल कर पाते हैं, तो उस चैनल की कमाई बहुत ज्यादा होगी।
  • वही ऐसे चैनल जिनके शो टीआरपी हासिल नहीं कर पाते हैं , उन चैनल की कमाई भी उतनी बढ़िया नहीं रहेगी।
  • इसलिए टीआरपी बढ़ने का सीधा सा मतलब है , उस चैनल की कमाई ज्यादा हो रही है और टीआरपी घटने का सीधा सा मतलब है , उस चैनल की कमाई में कमी हुई है।

निष्कर्ष :-

जिन लोगों ने टीआरपी का नाम सुना होता है, उनको इसके बारे में संपूर्ण रूप से जानकारी हासिल करने की काफी ज्यादा जिज्ञासा होती है। लिहाजा हमने आपकी क्वायरी को समझते हुए आज के इस टीआरपी क्या है , (what is TRP in Hindi) लेख को आप सभी लोगों के समक्ष में विस्तार पूर्वक से प्रस्तुत करने का प्रयास किया है। उम्मीद है , कि आपको यह हमारा लेख आवश्यक पसंद आया होगा। अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया तो इसे facebook ,whatsapp पर शेयर करे

FAQ

  • प्रश्न : क्या आज के समय में सभी टीवी सीरियल या प्रोग्रामों को अच्छी टीआरपी रेटिंग महत्वपूर्ण है ?

    उत्तर : जी हां सभी प्रकार के टीवी सीरियल या सभी प्रकार के प्रोग्राम को अच्छी टीआरपी रेटिंग काफी फायदेमंद होती है।
  • प्रश्न : क्या कोई भी एडवरटाइजर अच्छी टीआरपी रेटिंग देख कर किसी चैनल याद टीवी सीरियल के ऊपर अपना ऐड सर्व करता है ?

    उत्तर : कोई भी एडवरटाइजर जब किसी प्रोग्राम या चैनल पर अपने ऐड को सर्व करता है, तो वह टीआरपी रेटिंग को ध्यान में रखकर ही करता है।
  • प्रश्न : क्या अच्छी टीआरपी रेटिंग होने से किसी चैनल या प्रोग्राम के इनकम पर भी अच्छा असर पड़ता है ?

    उत्तर : जी हां जिस भी टीवी सीरियल या टीवी चैनल की टीआरपी रेटिंग अच्छी होती है, उसकी इनकम भी उतनी ही अच्छी होती है।
  • प्रश्न : क्या अच्छी टीआरपी होने से किसी चैनल या किसी एडवरटाइजर को फायदा होता है ?

    उत्तर : अच्छी टीआरपी से चैनल ओनर और एडवरटाइजर दोनों को फायदा होता है ?
  • प्रश्न : क्या कोई चैनल या टीवी सीरियल अपनी टीआरपी को अपने से बढ़ा सकते हैं ?

    उत्तर : जी बिल्कुल नहीं कोई भी टीवी सीरियल या टीवी चैनल अपने टीआरपी को अपने आप बड़ा नहीं सकता है। टीआरपी केवल उस चैनल के दर्शकों और उस प्रोग्राम के दर्शकों पर ही निर्भर होती है।
  • प्रश्न : क्या अच्छी टीआरपी से दर्शकों को भी कुछ फायदा होता है ?

    उत्तर : किसी चैनल या टीवी प्रोग्राम की टीआरपी यदि अच्छी है , तो उसका फायदा किसी भी प्रकार के दर्शकों को नहीं होता है।

how to transfer mb | Internet Data Transfer Kaise Kare 2020

Leave a Comment