traffic rules in hindi | यातायात के नियम और दिशानिर्देश 2021

आज के आर्टिकल में traffic rules in hindi के बारे में बताया गया है भारत में बहान चालको के लिए यातायात के नियम क्या है | नियमो को पालन कैसे करे । हमारे देश में रोज सड़क दुर्घटना के वजह से काफी ज्यादा मौतें होती हैं। हमारे देश में सबसे ज्यादा सड़क हादसे ट्रैफिक रूल का पालन न करने वाले और ट्रैफिक रूल के बारे में पूरी जानकारी ना रखने वाले लोगों के साथ होती है। यातायात के सभी नियमों का पालन करके हम खुद को और यातायात पर चलने वाले लोगों को सुरक्षित रख सकते हैं।

आज भी हमारे देश में लगभग एक बड़ी संख्या में लोगों को बहुत ही कम इंडियन ट्रैफिक रूल के बारे में पूरी जानकारी है।  हमारी भारत सरकार ने देश में होने वाले सड़क हादसों को कम करने के लिए कई सारे नियम और कानून बनाए हुए हैं। अभी हाल ही में केंद्र सरकार ने सड़क दुर्घटना के मामलों में और भी कमी लाने के लिए नए ट्रैफिक रूल का निर्माण किया हुआ है।

आज के इस लेख में हम आपको भारतीय यातायात के  नए नियम  के बारे में जानकारी देंगे और भारतीय यातायात के कुछ महत्वपूर्ण नियम भी विस्तार पूर्वक से बताएंगे। आज के हमारे इस लेख को आप सभी लोग शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें और सड़क दुर्घटना एवं यातायात के चालान से बचें।

Table of Contents

मोटर वाहन अधिनियम 2019 क्या है?

हमारे देश में सबसे कड़क यातायात नियम होने की वजह से भी काफी ज्यादा सड़क हादसों में दिन प्रतिदिन वृद्धि देखी जा रही थी। केंद्र सरकार ने आए दिन हो रहे सड़क हादसों को कम करने के लिए मोटर वाहन अधिनियम 2019 का निर्माण किया हुआ है। सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के द्वारा मोटर वाहन अधिनियम 2019 का निर्माण किया गया है और यातायात के इस नए नियम को सभी दो चक्का एवं चार चक्का वाहन के लिए हमारे भारत में स्वयं संसद के जरिए पारित कर दिया गया है । मोटर वाहन अधिनियम 2019 के अंतर्गत यदि दो चक्का और चार चक्का वाहन धारक सभी नियमों का पालन नहीं करता है, तो उसके ऊपर कानूनी कार्यवाही की जा सकती है और यहां तक कि निर्धारित जुर्माना भी उसे चुकाना पड़ सकता है।

मोटर वाहन अधिनियम 2019 की विशेषताएं क्या है?

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने मोटर वाहन अधिनियम 2019 केवल देश के नागरिकों के हित के लिए सुरक्षा के लिए निर्माण किया हुआ है। अब चलिए हम आपको मोटर वाहन अधिनियम 2019 की कुछ विशेषताओं के बारे में जानकारी दे देते हैं, कि आखिर क्यों बनाया गया है ।

 लोगों को यातायात के नियमों के प्रति जागरूक करना :-

इस अधिनियम के अंतर्गत भारत में हो रहे आए दिन सड़क दुर्घटनाओं की मृत्यु दर में कमी लाना है और लोगों के अंदर यातायात के नियमों को सख्ती से पालन करने के लिए जागरूक करना ही इस अधिनियम का सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य है। 

जुर्माने का प्रावधान :-

लोग यातायात के नियमों का सख्ती से पालन करें इसके लिए पहले से निर्धारित जुर्माने की धनराशि में करीब 10% की वृद्धि कर दी गई है । 10%  जुर्माने की धनराशि ज्यादा लगने की वजह से लोगों में जुर्माने का डर बैठ गया है और लोग पहले के मुकाबले यातायात के नियमों का और भी सख्ती से पालन करने लगे हैं।जो व्यक्ति यातायात के किसी भी नियम का उल्लंघन करते हुए पकड़ा जाएगा तो उसे जुर्माने की धनराशि का 10% अतिरिक्त जुर्माना चुकाना पड़ेगा।

यातायात के सुरक्षा उपकरण को पहनना है अनिवार्य :-

ट्रैफिक अधिनियम 2019 के अंतर्गत सभी वाहन चालकों को सुरक्षा के सभी उपकरणों को पहनना अनिवार्य कर दिया गया है। ऐसा करके भारत सरकार देश में होने वाले गंभीर सड़क दुर्घटनाओं को कम करना चाहती है। अगर कोई वाहन चालक इस नियम का पालन नहीं करता है, तो ऐसी परिस्थिति में उसे भारी चालान और यातायात के नियमों का उल्लंघन करने पर कानूनी कार्यवाही का सामना करना पड़ सकता है। 

 मोटर वाहन अधिनियम 2019 के अंतर्गत लगने वाले  फाइन चार्ट की जानकारी ?

नए मोटर वाहन अधिनियम 2019 के अंतर्गत चालान की राशि में 10% का इजाफा किया गया है। चलिए हम अब आपको लगने वाले चालान की धनराशि के बारे में इस चार्ट के माध्यम से जानकारी दे देते हैं।

अपराधपहले चालान या जुर्मानाअब चालान या जुर्माना
सामान्य (177)100 रूपये500 रूपये
रेड रेगुलेशन नियम का उल्लंघन (177A)100 रूपये500 रूपये
अथॉरिटी के आदेश की अवहेलना (179)500 रूपये2000रूपये
अनाधिकृत गाड़ी बिना लाइसेसं चलाना (180)1000रूपये5000 रूपये
अयोग्यता के बावजूद ड्राइविंग (182)500 रूपये10000 रूपये
बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाना (181)500रूपये5000 रूपये
ओवर साइज वाहन (182B) 5000 रूपये
ओवर स्पीडिंग (183)   400 रूपये1000 रूपये
खतरनाक तरीके से गाड़ी चलाना(184)1000 रूपये5000 रूपये
शराब पीकर गाड़ी चलाना (185)2000रूपये10000 रूपये
रेसिंग और तेज़ गति से गाड़ी चलाना (189)500 रूपये5000 रूपये
ओवर लोडिंग (194)2 हज़ार रूपये और 10000 रूपये प्रति टन अतिरिक्त20 हज़ार रूपये और 2 हज़ार रूपये प्रति टन
सीट बेल्ट (194B)100 रूपये1000 रूपये
बिना पर्मिट के गाड़ी चलाना (192A)5 हज़ार रूपये तक10 हज़ार रूपये तक
लाइसेंस कंडीशन का उल्लंघन (193)कुछ भी नहीं25 हज़ार रूपये से 1 लाख रूपये तक
पैसेंजर की ओवर लोडिंग (194A)कुछ भी नहीं1000 रूपये प्रति पेसेंजर
दोपहिया वाहन पर ओवर लोडिंग100 रूपये2 हज़ार रूपये और तीन महीने के लिए लाइसेंस रद्द
हेलमेट न पहनने पर100 रूपये1000 रूपये और तीन महीने के लिए लाइसेंस  रद्द
एमरजेंसी वाहन को रास्ता न देने पर (194E)कुछ भी नहीं10000 रूपये
बिना इंशोरेंस के गाड़ी चलाने पर (196)1000 रूपये2000 रूपये
दस्तावेज़ों को लगाने की अधिकारियो की शक्ति  (206)कुछ भी नहीं183,184,185,189,190,194c,194D 194Eके तहत ड्राइविंग लाइसेंस को रद्द किया जायेगा
अधिकारियो को लागू करने से किये गए अपराध (210B)कुछ भी नहींसम्बंधित अनुभाग के तहत दो बार जुर्माना

भारत में traffic rules in hindi और वाहन चालकों के लिए कुछ दिशानिर्देश क्या है।

आज यदि किसी इंसान से पूछा जाए कि तुम्हारे पूरे संपूर्ण जीवन में तुम्हारे लिए सबसे अमूल्य और बेशकीमती चीज क्या है।किसी भी व्यक्ति का जवाब होगा ,कि मानव जीवन से कोई भी अमूल्य एवं बेशकीमती चीज हो नहीं सकती हैं। मगर फिर भी हमारे देश में लोग वाहन चलाने के दौरान अनेकों प्रकार की सावधानियों को नजरअंदाज करते हैं। जिसका मूल्य उनको अपनी जान या फिर दूसरे की जान देकर चुकाना पड़ता है।

आज हमारे देश में आपको छोटे से लेकर बड़े व्यक्ति तक वाहन चलाते हुए नजर आ जाते हैं। मगर किसी को भी traffic rules in hindi के बारे में संपूर्ण रूप से जानकारी नहीं होती या फिर बहुत कम ही ऐसे लोग होते हैं , जिनको यातायात के नियम के बारे में संपूर्ण जानकारी है।

आप सभी लोगों के जीवन के कीमत को समझते हुए हमने आज इस महत्वपूर्ण लेख को आप सभी के समक्ष प्रस्तुत करने का प्रयास किया है। आज हम इस लेख के माध्यम से आप सभी लोगों को भारत के सभी यातायात के आवश्यक नियमों के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे। इस महत्वपूर्ण एवं ज्ञानवर्धक लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें ।

सभी मानव जाति के लिए traffic rules in hindi के नियम क्यों बनाए गए ?

आज हमारे या अन्य देशों में किसी भी कार्य या किसी से मिलने के लिए हमें टू व्हीलर या फोर व्हीलर से यात्रा करने में आसानी और समय की बचत लगती है। यही कारण है , कि आज यातायात के संसाधनों में बहुत विकास हो रहा है। सभी वाहन चालकों के लिए उनकी यात्रा को सुरक्षित एवं अन्य वाहनों की यातायात यात्रा को सुरक्षित रखने के लिए यातायात नियम का निर्माण किया गया है।

traffic rules in hindi का पालन करने से आप स्वयं एवं अन्य वाहन चालक को सुरक्षित रख सकते हैं। यदि हम यातायात के सभी नियमों का पालन करें तो कभी भी यातायात दुर्घटना नहीं हो सकती। आज यदि देखा जाए तो यातायात के दौरान 10 में से 4 लोगों की मृत्यु होती ही है , ऐसा केवल यातायात के नियमों का उल्लंघन करने की वजह से ही होता है।

भारत में traffic rules in hindi के प्रमुख एवं मुख्य नियम वाहन चालकों के सुरक्षा के लिए कौन-कौन से बनाए गए हैं?

यदि प्रत्येक वाहन चालक बनाए गए traffic rules in hindi का पालन करें तो वह स्वयं एवं अन्य चालकों के जीवन की भी सुरक्षा करने में अपना महत्वपूर्ण एवं मुख्य योगदान निभा सकता है। भारत में यातायात के कुछ इस प्रकार के मुख्य नियम बनाए गए हैं।

  • वाहनों की पार्किंग में विशेष रूप से ध्यान देना :-

    अपने अक्सर देखा होगा कि ऐसे कई लोग होते हैं , जो अपने वाहन को कहीं पर भी खड़ा करके चले जाते हैं। वह ध्यान नहीं देते हैं कि जहां उनका वाहन पार्किंग के तौर पर खड़ा है , उस स्थान पर किसी अन्य लोगों को भी आपके पार्किंग के वजह से समस्या हो सकती है या फिर कोई बड़ा हादसा हो सकता है।
  • इसीलिए यह आवश्यक है , कि आप भले ही थोड़े समय के लिए अपने वाहन को छोड़कर कहीं जाए उससे पहले आप अपने वाहन को सही पार्किंग स्थान पर खड़ा करना ना भूले। ऐसा करके आप अन्य लोगों के लिए परेशानी का कारण नहीं बनेंगे।
  • वाहन को चलाने के दौरान किसी और वाहन चालक को ओवरटेक ना करें :-

    सबसे आवश्यक यातायात के नियमों में से एक यातायात के दौरान किसी भी अन्य वाहन चालक को ओवरटेक करने का प्रयास ना करें। ऐसा करने के दौरान आपके वाहन का बैलेंस बिगड़ सकता है और साथ में किसी अन्य वाहन चालक के साथ आपका भयानक दुर्घटना भी हो सकता है। इसीलिए यह आवश्यक है , कि आप कभी भी यातायात के नियमों का पालन करना ना भूलें।
  • परिवहन सड़कों पर बार-बार वाहन चलाने के दौरान हार्न का प्रयोग ना करें :-

    देखा होगा कि कभी-कभी ऐसे वाहन चालक होते हैं , जो आगे निकलने के लिए बार-बार हार्न बजाते रहते हैं। ऐसा करके वे अपने सामने वाले वाहन चालक का ध्यान भ्रमित कर देते हैं और इसी वजह से कभी-कभी बड़े हादसे भी हो जाते हैं।इसीलिए यह आवश्यक है , कि आप कभी भी वाहन चलाने के दौरान बार-बार हार्न का प्रयोग ना करें।
  • एकतरफा रोड के नियम का पालन करना आवश्यक है :-

    एक तरफा रोड का निर्माण सिर्फ थोड़ी दूरी के लिए ही वाहन चालकों के सुविधा के लिए बनाए जाते हैं। ऐसे चालकों का पालन वाहन चालकों को करना चाहिए।
  • वाहन चालक जिस दिशा में जा रहा हो उसी लेन का उसे यातायात की यात्रा में प्रयोग करना चाहिए :-

    कई ऐसे वाहन चालक होते हैं जो जल्दी में जाने के लिए अपने लेन को छोड़कर दूसरे लेन में घुस जाते हैं। ऐसा करने के दौरान कभी-कभी पीछे से आ रही वाहन आप को जोरदार टक्कर मार सकती है और जगह पर ही आपका भयानक एक्सीडेंट भी हो सकता है। इसीलिए यह गलती आप बिल्कुल भी ना करें।
  • वाहन चालकों को पूरी सुरक्षा दृष्टि के साथ यू-टर्न का पालन करना चाहिए :-

    यातायात की सड़कों पर यू-टर्न का निर्माण केवल यातायात के वाहन चालकों के लिए ही किया जाता है। इसीलिए यह आवश्यक है , कि आप कभी भी यू-टर्न लेते समय अपने अगल-बगल आगे पीछे विशेष रुप से ध्यान दें और फिर यू-टर्न ले।
  • वाहन चलाने के दौरान आप अपने हाथ के संकेतों का सही से इस्तेमाल करें :-

    कई बार वाहन चलाने के दौरान हमें कभी दाएं और बाएं और अपने वाहन को सुविधा अनुसार ले जाना होता है। इस परिस्थिति में हम सबसे मुख्य बात को भूल जाते हैं। ऐसे में हमें जिधर भी वाहन को लेकर मुड़ना हो उसी तरफ के हाथ के संकेत का इस्तेमाल करें ताकि पीछे से आ रही वाहन आप किधर जाना चाहते हैं , उसे समझ सके फिर आपको उसी प्रकार से वह पास प्रदान करेगा।
  • वाहन की गति पर प्रतिबंध :-

    कई बार आपने देखा होगा कि ऐसे वाहन चालक होते हैं , जो अच्छी सड़क मिलने पर अपने वाहन की स्पीड पर नियंत्रण नहीं रखते हैं।कुछ हद तक आप ऐसा केवल खाली सड़क मिलने पर करें तो अच्छा है , परंतु ऐसे कई लोग होते हैं , जो शहर के अंदर भी अपने वाहन पर स्पीड का नियंत्रण नहीं रखते। मगर यह आवश्यक है , कि आप कम से कम शहरी इलाकों के अंदर बनाए गए स्पीड नियंत्रण नियम पर पूरा ध्यान दें और उसी नियम के अनुसार शहरी क्षेत्रों में अपने वाहन को चलाएं।

यातायात की तीन प्रमुख लाइटें वाहन चालकों को क्या संकेत प्रदान करती हैं ?

सभी प्रकार के बनाए गए नियमों का पालन करना वाहन चालकों का पहला कर्तव्य होता है। हमारे देश में कई ऐसे वाहन चालक आपको मिल जाएंगे ,जो ट्रैफिक लाइटों का मतलब ही नहीं समझते हैं और लगभग ट्रैफिक सिग्नल का उल्लंघन आपको दिन-प्रतिदिन लोग करते हुए नजर ही आते होंगे। यदि आप स्वयं को एवं दूसरे को सुरक्षित रखना चाहते हैं , तो आपको कुछ ट्रैफिक लाइट के सिग्नलओं के बारे में जानकारी रखना आवश्यक है। तो चलिए जानते हैं , वह तीन प्रमुख सिग्नल लाइटें वाहन चालकों को क्या संकेत देती हैं ।

  1. लाल लाइट क्या कहती है :-

    यातायात की तीन लाइटो वाले संकेत में सबसे पहला संकेत आपको लाल रंग का मिलता है। इस संकेत का मतलब है कि आपको उसी स्थान पर रुक जाना है , उसके आगे आपको अपने वाहन को ले जाने की अनुमति नहीं है। यदि आप लाल रंग की लाइट को नजरअंदाज करेंगे , तो आपके साथ कोई भी भयानक दुर्घटना घट सकती है। इसीलिए ट्रैफिक सिग्नल के इस लाइट के संकेत को समझना आवश्यक है।
  2. पीली लाइट क्या कहती है :-

    यदि आपको ट्रैफिक सिग्नल पर यह लाइट नजर आए तो आपको समझ लेना है , कि आपको आगे चलने के लिए अब अपने वाहन को तैयार करना है। पीली लाइट देखने पर आप आगे जाने के लिए तैयार रहें।
  3. हरि लाइट क्या कहती है :-

    ट्रैफिक सिग्नल की अंतिम लाइट हरि लाइट होती है। यदि आपको ट्रैफिक सिग्नल पर या लाइट नजर आए तो आप समझ ले , कि अब आप अपने वाहन को आगे ले जा सकते हैं। इसका मतलब होगा , कि आप पूरी तरह सुरक्षित हैं और आप अपनी यात्रा को जारी रख सकते हैं।

सभी वाहन चालकों के लिए आवश्यक एवं कुछ प्रमुख दिशानिर्देश क्या हो सकते हैं ?

यदि सभी प्रकार के वाहन चालक कुछ प्रमुख यातायात के दिशा निर्देशों का पालन करे , तो वह खुद वाहन में लगने वाले ईंधन की बचत भी कर सकते हैं। वाहन चालकों के लिए कुछ महत्वपूर्ण दिशा-निर्देश इस प्रकार से निम्नलिखित हैं।

  • सभी वाहन चालकों को एक निर्धारित स्पीड में वाहन को चलाना चाहिए ऐसा करके , वह वाहन में लगने वाले ईंधन की बचत भी कर सकते हैं।
  • सड़कों पर वाहन चलाने के दौरान अन्य वाहन चालकों को एक सम्मान एवं शिष्टाचार पूर्ण दृष्टि से देखें।ऐसा करने से आप एक दूसरे की भावनाओं को समझ सकते हैं और फिर बड़ी दुर्घटना होने से भी बच सकते हैं।
  • पैदल यात्रा करने वाले लोगों के लिए सड़कों पर जेबरा क्रॉसिंग का निर्माण किया जाता है। अभी आपको वाहन चलाने के दौरान कहीं पर ज़ेबरा क्रॉसिंग दिखे तो आपको वहां पर थोड़े समय के लिए रुक कर इंतजार कर लेना चाहिए। ऐसा करके आप पैदल यात्रा करने वाले लोगों को सुरक्षित रख सकते हैं। ऐसा करके आपको एक लोगों के लिए कुछ जनहित कार्य कर सकते हैं।
  • अन्य चालकों के लिए निर्धारित लेन में वाहन चलाने से गाड़ियों के ईंधन में भी काफी बचत होती है।
  • सड़कों पर वाहन चलाने के दौरान वाहन की दिशा बदलते समय आपको वाहन में मौजूद इंडिकेटर का प्रयोग करना चाहिए। ऐसा करके आप स्वयं को एवं दूसरे वाहन चालकों को भी सुरक्षित कर सकते हैं।
  • सभी वाहन चालकों को अपने वाहन की विशेष रूप से जांच पड़ताल समय पर करनी ही चाहिए। जैसे कि ब्रेक चेक करवाना गियर चेक करवाना और भी अनेक चीजें हैं , जिन्हें आप समय पर रिपेयर करके बड़ी दुर्घटना से बच सकते हैं।
  • यातायात के नियमों में सबसे मुख्य नियम गाड़ी के सभी एवं ड्राइवर के सभी आवश्यक कागजातों का होना चाहिए जैसे कि :- ड्राइविंग लाइसेंस , वाहन पंजीकरण प्रमाण पत्र , इंश्योरेंस प्रमाण पत्र , प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र इत्यादि को अपने वाहन के साथ ही हमेशा रखें।
  • आप सभी लोगों को यातायात के दौरान ट्रैफिक पुलिस भी आप की सुरक्षा के लिए दिशा निर्देश देते हुए देखी होगी। यातायात के सभी पुलिसकर्मी आपके सुरक्षा के लिए ही आपको दिशा-निर्देश देते हैं , इसीलिए आपको इनका पालन करना चाहिए। इनको नजरअंदाज करके आप मूर्खतापूर्ण कार्य ना करें।
  • वाहन चलाने के दौरान सभी टू व्हीलर हेलमेट और सभी फोर व्हीलर सीट बेल्ट का प्रयोग अवश्य करें। ऐसा करके आप बड़ी दुर्घटना में अपनी बहुमूल्य जीवन को सुरक्षित रख सकते हैं।
  • हम चलाने के दौरान आप किसी भी प्रकार के धूम्रपान या फिर नशीली पदार्थ का सेवन ना करें। ऐसा करके आप अपनी जान को तो खतरे में डालते ही है , साथ में दूसरे वाहन चालक को भी असुरक्षित रखने में आप सभी चीजों को नजरअंदाज करते हैं। इसीलिए वाहन चलाने के दौरान नशे का प्रयोग ना करें।
  • सबसे आवश्यक बात यह है कि वाहन चालकों को वाहन चलाने के दौरान मोबाइल फोन या फिर किसी अन्य चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • वाहन को स्टार्ट करने के बाद हैंडब्रेक को हटाना ना भूले।

पैदल यात्रियों के लिए सड़क सुरक्षा के कुछ दिशानिर्देश क्या हो सकते हैं ?

सड़क सुरक्षा के नियम तो बहुत सारे हैं परंतु कुछ प्रमुख नियम है , जिनके जरिए आप स्वयं को एवं वाहन चालक को सुरक्षित रख सकते हैं। उनमें से कुछ प्रमुख नियम इस प्रकार से निम्नलिखित हैं।

  • सड़क पर पैदल यात्रा के दौरान फुटपाथ का प्रयोग करें , यदि फुटपाथ ना हो तो आप रोड को छोड़कर पैदल यात्रा करें।
  • कभी भी रोड को पार करते समय अपनी दाई और बाईं तरफ विशेष रुप से ध्यान दें। ऐसा करके आप स्वयं को और वाहन चालक को सुरक्षित रख सकते हैं।
  • अपने बच्चों को भी पैदल यात्रा के सड़क नियमों के बारे में पूरी जानकारी प्रदान करें ऐसा करके आप उनके बहुमूल्य जीवन को सुरक्षित रख सकते हैं।
  • कभी भी चलते वाहन को दौड़ते हुए पकड़ने का प्रयास ना करें ऐसा करके आप अपनी जान को जोखिम में डालते हैं।
  • सबसे मुख्य नियम तो यह है , की सभी प्रकार के यातायात के नियमों का पालन पैदल यात्री और वाहन चलाने वाले वाहन चालक इसका पालन करें। इनको पालन करके आप स्वयं एवं दूसरों की भी जान बचा सकते हैं।

निष्कर्ष :-

हमारे भारत देश में शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के रहने वाले वाहन चालकों को संपूर्ण traffic rules in hindi की जानकारी नहीं होती है।इसी वजह से हमारे भारत देश में सबसे ज्यादा दुर्घटना यातायात के दौरान ही होती है। हमारे देश के प्रत्येक नागरिक को भारत देश के यातायात के नियमों का पालन करना चाहिए ऐसा करके वे अपने एवं दूसरों के परिवारों की खुशियां सुरक्षित रख सकते हैं।

FAQ :

Q: मोटर वाहन अधिनियम 2019 क्या है?

ANS :- मोटर वाहन के इस नए नियम के अंतर्गत चालान की राशि और यातायात के सभी नियमों का पालन ना करने पर वाहन चालकों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी और साथ ही में उनके ऊपर आवश्यकता पड़ने पर कानूनी कार्यवाही भी यातायात पुलिस के जरिए की जा सकती है।

Q: मोटर वाहन अधिनियम में बदलाव करने का कारण?

ANS :- आज से करीब 30 साल पुराने मोटर वाहन अधिनियम के वजह से लोगों में यातायात के नियमों का पालन ना करने का कोई भी डर नहीं रहता था, परंतु मोटर वाहन अधिनियम 2019 के निर्माण की वजह से अब लोगों में यातायात के सभी नियमों का पालन करने का एक डर बढ़ चुका है और इससे सड़क दुर्घटना की संख्या में भी काफी ज्यादा कमी देखने को मिलने वाली है। बेहतर कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए कभी-कभी पुराने नियम में बदलाव करना अनिवार्य है और उसी के एक रूप में मोटर वाहन अधिनियम 2019 एक नया बदलाव है।

Q: आखिर नया एमपी अधिनियम क्या है?

ANS :- सन 1988 के पुराने यातायात के नियमों में अधिनियम 2019 एक  नया संशोधन किया गया है और इससे लोगों में यातायात के नियमों का पालन करने का एक डर बैठेगा और साथ ही में यातायात के किसी भी नियमों का उल्लंघन करने पर जुर्माने की धनराशि पर करीब 10% का अतिरिक्त चार्ज लिया जाएगा।

Q: मोटर वाहन अधिनियम 2019 को किसके द्वारा पारित किया गया है?

ANS :- सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के जरिए मोटर वाहन अधिनियम 2019 को पारित किया गया है।

Q: मोटर वाहन अधिनियम 2019 के अंतर्गत यातायात के नियमों का उल्लंघन करने पर अपराधियों को कौन कौन सी सजा दी जा सकती है?

ANS :- इस अधिनियम के अंतर्गत अपराधी को 10% तक का अतिरिक्त जुर्माना चुकाना पड़ सकता है और साथ ही में आवश्यकता पड़ने पर यातायात पुलिस अपराधी के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्यवाही भी कर सकती है और जरूरत पड़ने पर अपराधी को जेल में भी डाला जा सकता है।

Q: मोटर वाहन अधिनियम 2019 को अभी किस किस राज्य में लागू किया गया है?

ANS :- अभी वर्तमान में मोटर वाहन अधिनियम 2019 को भारत के कुछ टॉप सिटीज में लागू किया गया है और वे गुजरात, उत्तराखंड, कर्नाटक, गोवा, उड़ीसा, हरियाणा जैसे राज्यों में लागू कर दिया गया है।

How to Download Learning Driving License Online in hindi

Where is my train app Kya hai | best app for track train location 200

[डाउनलोड ऍप]झारखंड कोरोना सहायता ऍप|Jharkhand Corona Sahayata App 2020 In Hindi

Share on:
About deepak yadav

Leave a Comment