ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है – ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

5/5 - (1 vote)

Operating system kya hai नमस्कार दोस्तों, आपने मोबाइल और कंप्यूटर में सिस्टम के बारे में सुना होगा। कंप्यूटर में Window और मोबाइल में Android के बारे में सुना होगा। क्या आप जानते हैं की यह दोनों क्या है? अगर आप इन दोनों के बारे में नही जानते हैं तो आपको बता दे की यह दोनों Operating System हैं।

Operating System क्या है 

कंप्यूटर और मोबाइल में कई प्रकार के सॉफ्टवेर इस्तेमाल किया जाएगा। कंप्यूटर और मोबाइल में दो प्रकार की सॉफ्टवेर इस्तेमाल किया जाते हैं जिसमे से एक हैं एप्लीकेशन सॉफ्टवेर और दूसरा सिस्टम सॉफ्टवेर। 

इन दोनों प्रकार के सॉफ्टवेर में यह सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सिस्टम हैं। किसी भी मोबाइल और कंप्यूटर को चलाने के लिए कम से कम एक ऐसे सॉफ्टवेर की जरूरत होती हैं जिसके माध्यम से दुसरे सॉफ्टवेर को चला सकते हैं। मोबाइल और कंप्यूटर का यह सबसे ज्यादा जरुरी भाग हैं। 

Operating system के बारे में सामान्य जानकारी 

कंप्यूटर और मोबाइल की सबसे बड़ी जरूरत या यूँ कहे की मोबाइल और कंप्यूटर की जरुरत इस सॉफ्टवेर के बारे में कुछ जानकारी के बारे में आप इन बिन्दुओं से समझ सकते हैं। यो वो बिंदु निम्न हैं – 

  • कंप्यूटर और मोबाइल के लिए सबसे ज्यादा जरुरी यह सॉफ्टवेर UI पर बना होता हैं और अन्य कंप्यूटर की नींव होता हैं।कंप्यूटर में अन्य किसी सॉफ्टवेर को चलाने के लिए जरुरी हैं। 
  • कंप्यूटर में ऑपरेटिंग सिस्टम, सिस्टम निर्देशों का एक समूह होता हैं जो की स्टोरेज डिवाइस में स्टोर होता हैं। इसके साथ ही यह कई अलग – अलग प्रोग्रामों का एक समूह होता हैं जो की कंप्यूटर के रिसोर्स और ऑपरेशन का समूह होता हैं। 
  • कंप्यूटर और मोबाइल को शुरू करने के बाद सबसे पहले लोड होने वाला यह सबसे पहला सॉफ्टवेर हैं जिसे प्रोग्राम ऑफ़ प्रोग्राम कहते हैं। 
  • एक ऑपरेटिंग सिस्टम कोम्पुटर की सभी ऑपरेशन को मैनेज करता हैं। 

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार 

कंप्यूटर में इस्तेमाल किये जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है। यह दोनों ऑपरेटिंग सिस्टम अलग – अलग श्रेणी में बने होते हैं – 

  • CUI – इसका पूरा नाम होता हैं Character user interface, यह सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण और सबसे पहले इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम को चलाने के लिए BIOS और Command की जरूरत होती हैं। इसमें यूजर इंटरफ़ेस पर इतना ज्यादा ध्यान नही दिया जाता हैं। 
  • GUI – इसका पूरा नाम होता हैं Graphical user interface, सबसे कंप्यूटर में दूसरा सबसे ज्यादा जरुरी ऑपरेटिंग सिस्टम होता हैं। इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम को चलाने के लिए किस भी प्रकार के Command की जरूरत नही रहती हैं। इसके उदाहरण हैं विंडोज। 

यह दोनों प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम अपने – अपने स्तर पर अच्छे हैं और बेहतर हैं। जरूरत के हिसाब से यह दोनों ऑपरेटिंग काम के काम आता हैं। 

इसे भी पड़े –

Pc Ka Full Form | पर्सनल कंप्यूटर का विकास।

Operating system की विशेषताएं

इस ऑपरेटिंग सिस्टम की कुछ मुख्य विशेषताएं हैं जो इस सिस्टम की आत्मा हैं। कंप्यूटर और मोबाइल में ईस्तेमाल होने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम की कुछ मुख्य विशेषताएं निम्न हैं –

  • Memory Management – एक ऑपरेटिंग सिस्टम का सबसे ज्यादा जरुरी हैं मेमोरी प्रबंधन। ऑपरेटिंग पुरे कंप्यूटर में मेमोरी प्रबंधन करने का काम करता हैं जो की ऑपरेटिंग सिस्टम का सबे महत्वपूर्ण भाग हैं। 
  • Processor Management – एक ऑपरेटिंग सिस्टम का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण काम होता हैं प्रोसेसर को मैनेज करना। किसी भी प्रोग्राम को चलाने के समय कंप्यूटर में मेमोरी के Allocation और Processor Management की जरूरत सबसे ज्यादा होती हैं। 
  • Device Management – ऑपरेटिंग सिस्टम Memory और Process प्रवंधन के साथ – साथ कंप्यूटर में उपलब्ध Device के प्रबंधन का भी काम करता हैं। कंप्यूटर में हम My Computer सेक्शन को देखते हैं,  उसमे कई अलग – अलग प्रकार के डिवाइस होते हैं तो यह ऑपरेटिंग सिस्टम उनको भी मैनेज करने का काम करती हैं। 
  • File Management – जब भी ऑपरेटिंग सिस्टम डिवाइस मैनेज करता हैं तो उसके साथ ही वह कंप्यूटर की फाइल भी मैनेज करता हैं। यह कंप्यूटर का सबसे ज्यादा जरुरी भाग हैं क्योंकि कंप्यूटर में कई प्रकार की फाइल स्टोर रहती हैं जिसमे सिस्टम की फाइल और लोकल फाइल इतियादी निम्न हैं। 
  • Security – एक कंप्यूटर में सबसे ज्यादा जरुरी होता हैं उस कंप्यूटर की सुरक्षा। किसी भी कंप्यूटर की सुरक्षा का जिम्मा उस कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम के हाथ में होता हैं। एक ऑपरेटिंग कंप्यूटर की सुरक्षा का भी ख्याल और उसका प्रबंधन करता हैं। 
  • Reliability – कंप्यूटर में इनस्टॉल होने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम की सबसे बड़ी और मुख्य विशेषता एक और हैं जिसे हम Realiablity के नाम से भी जानते हैं। इसका काम होता हैं कंप्यूटर में वायरस और और हानिकारक कोड को डिकोड करना। 
  • Costly – किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम को अगर आप खरीदना चाहते हैं तो आपको बता दे की एप्लीकेशन सॉफ्टवेर के मुकाबले यह सॉफ्टवेर महंगे होते हैं। इसको खरीदने के लिए कम से कम 155$ से 200$ तक खर्च करने पड़ते हैं। 
  • Ease of use – ऑपरेटिंग सिस्टम को इस्तेमाल करना बेहद ही आसान हैं। इसको इस्तेमाल करने के लिए किसी भी विशेष प्रकार की ट्रेनिंग की आवश्यकता नही होती हैं। 

Operating system के Advantage

एक ऑपरेटिंग सिस्टम के कई प्रकार के लाभ और एडवांटेज हैं। इसके किस प्रकार के लाभ हैं जिसके बारे में हम जानते हैं। 

  • एक ऑपरेटिंग सिस्टम को इस्तेमाल करना काफी आसान होता हैं। इसमें कोई ज्यादा तकलीफ और कोई हार्ड सॉफ्टवेर नही होते हैं जिसको इस्तेमाल करने के लिए आपको कोई विशेष प्रकार की ट्रेनिंग लेनी पड़ जाए। 
  • ऑपरेटिंग सिस्टम में किस भी फाइल और डाटा को ढूंढना आसान हो जाता हैं। इसके लिए आपको किसी भी प्रकार की ट्रेनिंग लेने की जरूरत नही हैं। 
  • ऑपरेटिंग सिस्टम की सहायता से अन्य हार्डवेयर को जोड़ सकते हैं जैसे प्रिंटर, माउस इतियादी। 
  • ऑपरेटिंग सिस्टम को आसानी से इनस्टॉल किया जा सकता हैं और अपडेट किया जा सकता हैं। 
  • ऑपरेटिंग सिस्टम के आधार पर ही यह निर्भर होता हैं की इसमें कौनसा गेम चलेगा और कौनसा सिस्टम चलेगा इतियादी। 
  • ऑपरेटिंग सिस्टम भी कई अलग – अलग प्रकार के होते हैं। 

इसे जाने –

Types of computer in Hindi | आधुनिक कंप्यूटर के प्रकार।

ऑपरेटिंग सिस्टम कौनसे होते हैं ? 

ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे और कौनसे होते हैं उसके बारे में भी जान लेते हैं। आप किन – किन ऑपरेटिंग सिस्टम को अपने फ़ोन में इनस्टॉल कर सकते हैं। 

  • Windows – कंप्यूटर में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम यही हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम को हम Windows के नाम से जानते हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम को Microsoft दुवारा बनाया गया हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम को आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता हैं क्योंकि यह GUI प्रकार का ऑपरेटिंग सिस्टम हैं। 
  • MacOS – विंडो के अलावा एक और ऑपरेटिंग सिस्टम हैं जिसे काफी ज्यादा इस्तेमाल किया जाता हैं। इस ऑपरेटिंग सिस्टम को अमीरों का ऑपरेटिंग सिस्टम भी कहा जाता हैं क्योंकि यह केवल एप्पल के कंप्यूटर और लैपटॉप में चलता हैं। यह ऑपरेटिंग सिस्टम काफी महंगा आता हैं जो की विंडो से भी काफी ज्यादा महंगा आता हैं। 
  • Linux – ज्यादातर सॉफ्टवेर कंपनी और बड़ी – बड़ी कंपनियों दुवारा इस्तेमाल किया जाने वाला यह ऑपरेटिंग सिस्टम भी एक अच्छा ऑपरेटिंग सिस्टम हैं। इसकी सबसे अच्छी बात हैं की यह मुफ्त में बाज़ार में उपलब्ध हैं। 
  • ChromeOS – इसका नाम सुनते ही आपको क्रोम ब्राउज़र की याद आती होगी परन्तु आपको यह जान कर हैरानी होगी की यह एक ऑपरेटिंग सिस्टम हैं। वैसे तो इसके नाम से सीधे ही कंप्यूटर आते हैं जो आसानी से आप खरीद सकते हैं। 
  • Android – हम और आप मोबाइल का इस्तेमाल करते हैं। मोबाइल में ज्यादातर इसी ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल किया जाता हैं। यह केवल मोबाइल में इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम है।

यह हैं वो सभी कंप्यूटर और मोबाइल में इस्तेमाल किया जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम। इन सब का इस्तेमक्ल हम बखूबी करते हैं। इनका इस्तेमाल करते समय हम इनके बारे में नहीं जानते हैं। परन्तु यह हमारे लिए बेहद ही जरुरी हैं। 

Faq about Operating system kya hai

Q : विश्व में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला ऑपरेटिंग सिस्टम कौनसा हैं ?

Ans विश्व में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला एंड्राइड हैं जो मोबाइल में इस्तेमाल किया जाता हैं वही विंडो एक ऑपरेटिंग सिस्टम और हैं जो कंप्यूटर में इस्तेमाल किया जाता हैं।

Q : सबसे महंगा ऑपरेटिंग सिस्टम कौनसा हैं ?

Ans दुनिया का सबसे महंगा ऑपरेटिंग सिस्टम MacOS हैं जो की एप्पल के कंप्यूटर और लैपटॉप में इस्तेमाल किया जाता हैं।

Q : ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे बनता हैं ?

Ans ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाने के लिए कई तरह की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की जरूरत होती हैं जैसे C, C++ इतियादी।

Q : ऑपरेटिंग सिस्टम के कितने भाग होते हैं ?

Ans ऑपरेटिंग सिस्टम के मुख्य रूप से 2 भाग होते हैं एक तो CUI और दूसरा GUI मुख्य हैं।

Q : मोबाइल में कौनसा ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल किया जाता हैं ?

Ans मोबाइल में ज्यादातर एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम इस्तेमाल किया जाता है।

निष्कर्ष

इस लेख में आपको Operating system kya hai के बारे में बताया गया हैं। उम्मीद करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा। अगर आज का हमारा यह आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर साझा करना ना भूले।

इसके अतिरिक्त अगर आपके मन में इस लेख से संबंधित कोई भी सवाल है या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं। शुरू से अंत तक आर्टिकल पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और आपका समय शुभ हो।

Share on:

मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं?, आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। धन्यवाद Gmail ID - [email protected]

Leave a Comment