mutual fund ke nuksan – म्यूचुअल फंड के नुकसान

आज आपको mutual fund ke nuksanके बारे में बताया इसमें इन्वेस्टमेंट करने के लिए हर व्यक्ति आजकल एक्सिटेड होता जा रहा है, क्योंकि ये एक ऐसा विकल्प है, जिसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति बहुत कम समय में बहुत अधिक पैसा कमा सकता है, लेकिन Mutual Fund में इन्वेस्ट करते समय एक बात हमेशा जहन में रखना चाहिए।

कि Mutual Fund से जितने ज्यादा लोग अमीर हुए है, उससे ज्यादा बर्बाद भी हुए है। क्योंकि म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्टमेंट करना बहुत जोखिम भरा होता है और अगर आपको म्यूच्यूअल फंड के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, तो पहले इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी एकत्रित कर लें। तभी म्यूच्यूअल फंड में इन्वेस्ट करने की तैयारी करें? वरना आपको म्यूच्यूअल फंड से नुकसान का खामयाजा भुगतना पड़ सकता हैं।

लेकिन हम चाहते है कि हमारे किसी भी पाठक म्यूच्यूअल फंड इन्वेस्टमेंट से Loss ना हो। इसलिए हम आज इस आर्टिकल में म्यूच्यूअल से होने से वाले नुकसानों के बारे में चर्चा करेंगे। जो कि म्यूच्यूअल फण्ड इन्वेस्टमेंट करने के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित होगी। तो चलिए शुरू करते है –

म्यूचुअल फंड के नुकसान

mutual fund ke nuksan hindi

वैसे तो अगर आप म्यूच्यूअल फंड में निवेश करने के बारे में सोच रहे है, तो बहुत अच्छी बात है, क्योंकि ये एक ऐसा रास्ता है,

जो कि भी आम व्यक्ति को सफलता की ऊंचाइयों तक बहुत कम  समय में पहुंचा सकता है। अगर वह किसी सही जगह इन्वेस्ट करता है, लेकिन अगर वह गलत जगह निवेश कर देता है,

 तो उसकी इन्वेस्टमेंट राशि डूब भी सकती है, इसलिए Mutual Fund में निवेश में पहले इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी जुटा लें। क्योंकि Mutual Fund में निवेश करने के बहुत से नुकसान है। जो कि कुछ निम्न प्रकार है –

इसे जाने – Mutual fund kya hai| निवेश कैसे करें

1. रिटर्न की गारंटी नहीं

जब भी किसी बिज़निस को शुरू करते है या फिर किसी अन्य जगह इन्वेस्ट करते है, तो रिटर्न कितना होगा। ये सोचकर कदम आगे बढ़ाते है। लेकिन म्यूच्यूअल फंड ये बिल्कुल भी निश्चित नहीं होता है, कि आपको रिटर्न कितना मिलेगा या फिर रिटर्न मिलेगा ही मिलेगा। क्योंकि म्यूच्यूअल फंड निवेश में हम किसी शेयर के ऊपर निवेश करते है और अगर शेयर के रेट बढ़ते है, तो इन्वेस्टरों को मुनाफा मिलता है और यही कारण है कि म्यूच्यूअल फंड में निवेश में रिटर्न की गारंटी नहीं होती है।

2. एग्जिट लोड लेना

कोई इन्वेस्टर अगर एक वर्ष से कम के लिए म्यूच्यूअल फंड में निवेश करता है, तो उसे एग्जिट लोड देना होता है, जो कि निवेश का 1% होता है। इसलिए अगर आप म्यूचअल फंड में निवेश करते है, तो एक वर्ष से अधिक के लिए निवेश करें। कोई अगर आप बार एंट्री और एग्जिट करते है, तो आपके निवेश की एक बहुत बड़ी राशि एग्जिट लोड के रूप में चली जाएगी और आपको हानि होने की ज्यादा संभवना रहेगी।

3. म्यूच्यूअल फंड रिटर्न टेक्स

कोई भी व्यक्ति अगर म्यूचअल फंड में निवेश करता है और उसे मुनाफा होता है। तो उस प्रॉफिट का कुछ हिस्सा टैक्स रूप में देना होता है। ये टैक्स राशि कितने प्रतिशत होगी। ये इस बात पर निर्भर करती है, कि आपने निवेश करके कितने समय में प्रॉफिट बनाया है। तो अगर आपने 1 साल से कम अवधि में प्रॉफिट बनाया है, तो आपको 15% और अगर एक साल से अधिक की अवधि में प्रॉफिट बनाया है। तो आपको प्रॉफिट का 10% हिस्सा टैक्स के रूप में देना होगा। इसलिए हम आपको सलाह देते है, कि जहां तक हो सके। तो एक वर्ष से अधिक अवधि के लिए निवेश करें। जिससे आपके टैक्स की बहुत बचत होगी।

4. म्यूच्यूअल फंड की लागत

यदि आप म्यूच्यूअल फंड निवेश किया होगा। तो आपको ज्ञात होगा। कि निवेश किये गए फंड राशि में से एक्सपेंस रेश्यो रूप में कुछ राशि फंड हाउस को दिया जाता है। ये राशि निवेश अवधि पर निर्भर करती है, क्योंकि अगर आप कम समय के लिए निवेश करते है तो कम भुगतान करना होता है, और अगर अधिक समय के लिए निवेश करते है तो अधिक भुगतान करना होता है। इसलिए निवेश करने से पहले म्यूच्यूअल फंड के खर्चों से संबंधित जानकारी प्राप्त कर लें।

5. लॉक इन अवधि 

लॉक इन अवधि की शर्त सभी म्यूचअल फंड निवेशों पर नहीं होती है, लेकिन एंडेड स्कीम और Elss स्कीम में लॉक इन अवधि की अवधि जरुर होती है। जिसका मतलब होता है कि अपने ये राशि एक विशेष समय अवधि के लिए निवेश की है और अगर उस राशि को आप निश्चित समय अवधि से पहले प्राप्त करते है, तो आपको काफी राशि काट प्रदान की जाती है और काफी समस्याएं भी होती है।

6. स्कीम के चयन में गलती 

म्यूच्यूअल फंड हाउस द्वारा कई स्कीमों पर निवेश किया जाता है। लेकिन बहुत सी बार निवेशकों द्वारा की गयी गणना सही साबित नहीं होती है औऱ वे गलत स्कीम का चयन कर वैठते हैं। जिस कारण उन्हें नुकसान का सामना करना पड़ता है।

7. विविधता

म्यूच्यूअल फंड में विवधता के कारण भी आपको बहुत सी बार नुकसान उठाना पड़ जाता है। क्योंकि स्टॉक के रेट तो बढ़कर दोगने तक हो जाते है। लेकिन आपके निवेशक द्वारा। किसी अन्य स्टॉक पर इन्वेस्ट किया होता है। जिससे आपको। मुनाफा नहीं मिल रहा पाता है।

Note – इन सभी सभी कारणों के अलावा भी बहुत से कारण है। जिससे आपको काफी नुकसान हो सकता है। लेकिन जो मुख्य थे, उनके बारे में हमारे द्वारा लेख में बताया गया है। इसलिए अगर आप म्यूच्यूअल फंड निवेश करते है। तो इसके बारे सम्पूर्ण जारी जुटा लें।

म्यूच्यूअल फंड से संबंधित सवाल और उनके जबाब

Q. म्यूच्यूअल फंड क्या होता है?

विभिन्न्न निवेशकों की राशि को एकत्रित करके एक फंड में निवेश करना, जहां से अच्छा रिटर्न मिल सके। म्यूच्यूअल फंड कहलाता है।

Q. म्यूच्यूअल फंड कितने प्रकार के होते है?

मुख्य तौर पर म्यूच्यूअल फंड 5 तरीके के होते है।

Q. म्यूच्यूअल फंड में कितना रिटर्न मिलता है?

म्यूच्यूअल फंड में बहुत अच्छा रिटर्न मिलता है। यहां तक की बहुत सी स्कीम ऐसी भी है। जिसके द्वारा निवेशकों को एक वर्ष में 100% तक का रिटर्न मिला है।

Q. भारत का प्रथम म्यूच्यूअल फंड कौन सा था?

भारत का प्रथम म्यूच्यूअल फंड यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया है। जिसे 1964 में भारत सरकार द्वारा स्थापित किया गया था।

निष्कर्ष –

आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से mutual fund ke nuksan के बारे में बताया। उम्मीद करते है कि म्यूच्यूअल फंड की इस जानकारी के बारे में पढ़कर आपको काफी अच्छा लगा होगा। इसके अलावा अगर आप म्यूच्यूअल फंड से जुड़ी कोई अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। तो कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते है। हमारी टीम द्वारा आपकी कमेंट पर विशेष तौर पर ध्यान दिया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.