Internet in Hindi – इंटरनेट क्या है

Internet in Hindi अगर आप मोबाइल का इस्तेमाल करते है तो आप जरूर उसमे इंटरनेट का भी इस्तेमाल करते होंगे। इंटरनेट जिसे हिंदी में अंतरजाल भी कहते है, साधारण भाषा में इंटरनेट बहुत सारे नेटवर्क ओं का एक जाल है। अपनी सूचना को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने की सबसे आधुनिक प्रणाली का नाम इंटरनेट है। आज इस लेख के माध्यम से आप सभी लोगों को इंटरनेट के बारे में विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान करेंगे और हमें उम्मीद है कि आज के इस जानकारी से आपको इंटरनेट से संबंधित लगभग आवश्यक ज्ञान जरूर प्राप्त होगा।

इंटरनेट एक नेटवर्क का जाल है जिसका इस्तेमाल एक से ज्यादा कंप्यूटर को जोड़ने के लिए किया जाता है। इंटरनेट की मदद से हम ना केवल कंप्यूटर बल्कि कंप्यूटर में पाई जाने वाली सभी प्रकार की जानकारी को विश्व भर में साझा कर सकते हैं हम एक स्थान से बैठे-बैठे अपनी जानकारी पूरे विश्व में किसी भी मोबाइल या कंप्यूटर में भेज सकते हैं यह सब इंटरनेट की वजह से होता है।

इंटरनेट क्या है

इंटरनेट नेटवर्क का एक जाल है जिसे एक से ज्यादा विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर और जानकारियों को जोड़ने का कार्य किया जाता है। इन्टरनेट सूचना तकनीक की सबसे आधुनिक प्रणाली है इंटरनेट की मदद से हम एक से ज्यादा कंप्यूटर को जोड़ते है और इंटरनेट के जरिए अपने विचार या किसी भी प्रकार की जानकारी को एक साथ पूरे विश्व भर के कंप्यूटर में साझा किया जा सकता है। 

आपको बता दें कि पहले कंप्यूटर इतना ज्यादा प्रगतिशील नहीं था हम इतनी सारी जानकारी को पूरे विश्वभर में नहीं भेज सकते थे शुरुआत के दिनों में एक ऐसा नेटवर्क बनाया गया जिसकी मदद से हम एक से ज्यादा कंप्यूटर को जोड़ सकें और बातें कर सकें या किसी जानकारी को साझा कर सकें जब यह प्रक्रिया कारगर साबित हुई तो इसमें जुड़ने वाली कंप्यूटरों की संख्या को बढ़ा दिया।

आगे चलकर टीम बदली नाम के एक व्यक्ति ने www की खोज की जिसकी मदद से हम एक ऐसा पेज बना सकते थे जिसे हम इस कंप्यूटर के समूह में छोड़ सकते हैं और जो भी कंप्यूटर इस समूह में जुड़ा है वह आप के बनाए हुए पेज को देख सकता है और उससे जानकारी प्राप्त कर सकता है इसी प्रक्रिया में वेबसाइट को जन्म दिया आगे चलकर गूगल और बिंग जैसी web browser हमें मिले। 

आज के समय में लोग यह सोचते हैं कि गूगल का इस्तेमाल करना ही इंटरनेट है जबकि ऐसा नहीं है इंटरनेट कंप्यूटर ओं का एक समूह है जिसमें बहुत सारे कंप्यूटर एक साथ जुड़े होते हैं और www वह प्रक्रिया है जिसकी मदद से हम अपनी किसी जानकारी को इस समूह में साझा कर सकते है। जिसके आधार पर हम वेबसाइट और अलग-अलग ऑनलाइन एप्लीकेशन का इस्तेमाल कर पाते हैं।

Internet full form in hindi

Internet का फुल फॉर्म Interconnected Network होता है। 

आपको बता दें यह कोई सार्वजनिक फुल फॉर्म नहीं है इसे आधिकारिक तौर पर मान्यता नहीं दी गई है या कुछ लोगों के द्वारा मनगढ़ंत फुल फॉर्म है। असल में इंटरनेट बहुत सारे कंप्यूटर को जोड़ने का कार्य करता है इस वजह से इसे नेटवर्क ऑफ नेटवर्क कहते है और इसी बात को आसानी से समझाने के लिए इंटरनेट शब्द बनाया गया। 

इंटरनेट का इतिहास

इंटरनेट के मजेदार ख्याल से उत्पन्न हुआ था जिसमें एक व्यक्ति ने सोचा था कि अगर बहुत सारे कंप्यूटर एक साथ जुड़े हो और हम आपस में बात कर सके या किसी जानकारी को साझा कर सकें तो हम किसी भी जंग को जीत सकते हैं।

इसी के साथ अमेरिकी सेना में सबसे पहले चार कंप्यूटर को एक साथ जोड़ा गया और ARPANET का नाम दिया गया। यह शीत युद्ध का वक्त था जब 1969 में जब अमेरिकी सैनिकों ने चार कंप्यूटर को एक साथ जोड़ा ताकि वे अपनी जानकारी को खुफिया तौर पर एक दूसरे के साथ साझा कर सकें। 1972 में ऐसे कंप्यूटर में सबके सामने इस्तेमाल किया और उस वक्त कंप्यूटर की संख्या 37 हो चुकी थी। 

1973 तक अमेरिका ने इसे सार्वजनिक किया ताकि इसका इस्तेमाल सभी देश आसानी से कर सकें। उसके बाद रूस, इंग्लैंड और नॉर्वे वह देश बने जिन्होंने अर्पैनेट का इस्तेमाल अपने सैनिकों के लिए किया। 1974 में पहली बार इस कंप्यूटर जोड़ने वाली प्रक्रिया जिसे ARPANET का नाम दिया गया था उसे सार्वजनिक तौर पर आम इंसान के इस्तेमाल के लिए लागू किया गया। 

1982 में ARPANET के साथ जुड़ने वाले कंप्यूटर की संख्या बहुत ज्यादा बढ़ गई थी जिस वजह से हर कंप्यूटर को अपना एक IP Address दिया गया जिसके आधार पर कौन सा कंप्यूटर कहां कार्य कर रहा है इस बात की जानकारी मिल सके। 

1990 में ARPANET को पूरी तरीके से बंद कर दिया गया और इस बड़ी से कंप्यूटर के समूह को इंटरनेट का नाम दे दिया गया। 1990 में लाखों कंप्यूटर एक दूसरे के साथ जुड़ चुके थे जब वह आपस में बात कर सकते थे और किसी भी जानकारी को साझा कर सकते थे मगर ऐसी कोई प्रक्रिया नहीं थी जिससे एक कंप्यूटर सभी कंप्यूटर को एक साथ जानकारी साझा कर सकें जिसके लिए Tim Bern Lee ने www की खोज की और उसके बाद सभी कंप्यूटर आपस में वेबसाइट और एप्लीकेशन के जरिए जुड़ गए। 

इसे भी पड़े

कंप्यूटर में हिंदी टाइपिंग कैसे करें – 3 बेस्ट तरीके कंप्यूटर में हिंदी टाइपिंग करने के

Internet की खोज किसने की और इसका मालिक कौन है

आपको बता दें कि इंटरनेट का कोई मालिक नहीं है 1957 में अमेरिका में एक Advanced Research Projects Agency बनाई गई जिसका मुख्य कार्य शीत युद्ध के लिए आधुनिक रिसर्च करना था। 

इसी एजेंसी ने रिसर्च करने के दौरान 4 कंप्यूटर को एक साथ जोड़ने की एक प्रक्रिया का खोज किया जिसके पश्चात उन्होंने चार कंप्यूटर को अलग-अलग जगहों पर रख दिया और उसे आपस में जोड़ दिया जिसकी मदद से यह आपस में बात कर सकते थे और यह प्रक्रिया फोन से बात करने के मुकाबले ज्यादा अच्छी थी। 

इसी एजेंसी ने अपने नाम पर इस कंप्यूटर नेटवर्क को ARPANET का नाम दिया। जिसे बाद में बदल कर इंटरनेट कर दिया गया। 

आप यह कह सकते हैं कि अमेरिकी सैनिकों के द्वारा अगर इस नेटवर्क का खोज किया गया था तो इसे अमेरिकी स्वामित्व का कहना चाहिए मगर ऐसा नहीं है क्योंकि इंटरनेट में कंप्यूटर के जुड़ने की संख्या जब बढ़ रही थी तब इस समूह में पूरी दुनिया भर से कंप्यूटर आपस में जुड़ गए और उसके बाद इसका नाम इंटरनेट किया गया जिस वजह से इंटरनेट का कोई स्वामित्व नहीं है। 

FAQ

Q. इंटरनेट का मालिक कौन है?

Ans. इंटरनेट का कोई मालिक नहीं है इसे अमेरिकी सैनिकों के द्वारा शुरू किया गया था बाद में पूरे विश्वभर से कंप्यूटर इस नेटवर्क में जुड़ गए और इसे नेटवर्क को इंटरनेट का नाम दिया गया।

Q. इंटरनेट की खोज किसने की?

Ans. इंटरनेट को अमेरिकी सैनिकों के द्वारा 1969 में खोजा गया था जब उन्होंने चार कंप्यूटर को आपस में जोड़ा था जिसके पश्चात और भी विभिन्न प्रकार के कंप्यूटर पूरी दुनिया से जुड़े और इस नेटवर्क को बड़ा बना दिया और आज हम इस नेटवर्क ऑफ नेटवर्क को इंटरनेट के नाम से जानते हैं।

Q. इंटरनेट को कब शुरू किया गया?

Ans. इंटरनेट को 1982 में पूरी दुनिया भर के लिए सार्वजनिक रूप से शुरू किया गया।

Q. इंटरनेट में कौन सा कंप्यूटर जुड़ा है यह कैसे पता चलता है?

Ans. इंटरनेट चलाने वाले और कंप्यूटर को एक IP address दिया जाता है जिसके आधार पर उस कंप्यूटर के कार्य करने की सभी जानकारी पता चलती है।

निष्कर्ष

उम्मीद करते हैं इसलिए को विस्तार पूर्वक पढ़ने के बाद अब इंटरनेट की सभी प्रकार की जानकारी मिली होगी और यह समझ गए होंगे कि इंटरनेट का खोज कैसे हुआ या इसका पूर्ण इतिहास क्या है और आज हम किस प्रकार इंटरनेट का इस्तेमाल कर पा रहे हैं। 
अगर इस लेख ने आपको Internet in Hindi की विस्तार पूर्वक जानकारी दी है तो इसे अपने मित्रों के साथ साझा करें और अपने विचार हमें कमेंट करके बताना ना भूलें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.