Html Ka Full Form | एचटीएमएल क्या होता है।

5/5 - (1 vote)

Html Ka Full Form दोस्तों आज हम आप सभी लोगों को अपने इस महत्वपूर्ण लेख के माध्यम से बताने वाले हैं, किसी भी वेबसाइट के आधार के विषय में। क्या आप सभी लोग जानते हैं, किसी भी वेबसाइट का आधार क्या होता है, यदि नहीं तो हम सभी लोगों को बता देना चाहते हैं, किसी भी आधार वेबसाइट का मुख्य आधार होता है एचटीएमएल

आप सभी लोगों ने एचटीएमएल का नाम पहले भी सुना होगा, परंतु क्या आप सभी लोग एचटीएमएल के विषय में जानते हैं? आप में से बहुत से ऐसे लोग होंगे जो कि एचटीएमएल के विषय में संपूर्ण जानकारियां जानते ही होंगे, परंतु आप में से ही कुछ लोग ऐसे भी होंगे, जिन्हें एचटीएमएल के विषय में कुछ भी नहीं पता होगा। तो आप सभी लोगों को चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है, आज आप सभी लोगों को इस लेख में एचटीएमएल के विषय में संपूर्ण जानकारियां जानने को मिलेगी।

आज हम आप सभी लोगों को अपनी संपूर्ण लेख के माध्यम से बताएंगे एचटीएमएल क्या है और इसके उपयोग इत्यादि के विषय में। आज हम सभी लोग इस लेख में जानेंगे, एचटीएमएल क्या होता है? एचटीएमएल का फुल फॉर्म क्या होता है? एचटीएमएल एलिमेंट कौन-कौन से होते हैं? एचटीएमएल के इतिहास? एचटीएमएल वर्जन? एचटीएमएल का उपयोग कहां और कैसे किया जाता है? एचटीएमएल का उपयोग कैसे सीखे इत्यादि। यदि आप सभी लोग एचटीएमएल के विषय में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो कृपया आप इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। आप सभी लोगों को इस लेख में एचटीएमएल से जुड़ी सभी जानकारियां जानने को मिलेंगे।

HTML क्या होता है?

एचटीएमएल एक प्रकार का लैंग्वेज होता है, जो कि कोडेड रूप में प्रस्तुत किया जाता है। एचटीएमएल के इस लैंग्वेज को मार्कअप लैंग्वेज कहा जाता है। मार्कअप लैंग्वेज का उपयोग वेब डाक्यूमेंट्स को बनाने के लिए और उन्हें विकसित करने के लिए किया जाता है। HTML को वेब पेज का आधार माना जाता है और वह पेज को वेबसाइट का आधार कहा जाता है। इस बात से यह स्पष्ट है, कि वेबसाइट का वास्तविक आधार एचटीएमएल होता है।

Read Also: Password ko Hindi mein kya bolate Hain | पासवर्ड कितने प्रकार के होते हैं।

HTML का उपयोग करके वेब डाक्यूमेंट्स बनाने के लिए टैग्स का उपयोग किया जाता है। हम आप सभी लोगों को यह भी बता देना चाहते हैं, कि एचटीएमएल वेब डाक्यूमेंट्स बनाने के लिए टैग का उपयोग स्वतः ही कर लेती है। बिना एचटीएमएल के उपयोग से किसी भी वेबसाइट के एड्रेस एवं खुद वेबसाइट की कल्पना करना असंभव माना जाता है।

HTML का फुल फॉर्म

HTML का फुल फॉर्म होता है, हाइपर टेक्स्ट मार्कअप लैंग्वेज। एचटीएमएल के फुल फॉर्म में उपस्थित सभी शब्दों के अपने अलग-अलग मतलब होते हैं।

HT: Hypertext

M: Markup

L: Language

  • Hyper text: हाइपरटेक्स्ट वह होता है, जिसके माध्यम से किसी वेबसाइट को एक्सप्लोर किया जाता है। हाइपर टेक्स्ट एक साधारण टेक्स्ट ही होता है, परंतु हाइपरटेक्स्ट अपने साथ किसी अन्य टेक्स्ट को एक साथ जोड़े रखता है, जिसे माउस के क्लिक टाइप या कीबोर्ड की बटन दबाकर सक्रिय किया जाता है। हाइपरटेक्स्ट की इसी विशेषता के कारण हाइपरटेक्स्ट को साधारण टेक्स्ट से अलग रखा गया है, हाइपरटेक्स्ट को हाइपरलिंक भी कहा जाता है।

यदि हाइपरलिंक बनाना है तो हम सभी लोगों को एचटीएमएल के एंकर कोड अर्थात एंकर टैग का उपयोग करना होता है। इतना ही नहीं हम सभी लोगों को इसके अलावा इमेजेस वीडियोस साउंड इत्यादि चीजों को भी हाइपरलिंक बनाया जा सकता है। यदि हाइपरलिंक का उपयोग करके ऐसी चीजें बनाई जाती हैं, तो उन्हें हाइपरमीडिया के नाम से जाना जाता है।

हाइपरटेक्स्ट की विशेष टेक्स्ट को एक साथ जोड़े रखने की विशेषता के साथ-साथ इसकी एक विशेषता और भी है, जो कि इसकी सबसे खास विशेषता मानी जाती है और वह यह है, कि हाइपरटेक्स्ट रेखीय नहीं होता बल्कि हाइपरटेक्स्ट को किसी भी क्रम में सक्रिय किया जा सकता है, वह भी बड़ी ही आसानी से।

  • Mark-up: मार्क अप का मतलब होता है, किसी भी टेक्स्ट के लेआउट या स्टाइल को बदलना। आप सभी लोग किसी भी टेक्स्ट में टैग का उपयोग करके उसे बड़ी ही आसानी से मार्क कर सकते हैं। आप सभी लोग जिस भी प्रकार के टैग का उपयोग टेक्स्ट को मार्क करने के लिए करते हैं, ठीक उसी प्रकार का वेब पेज आप सभी लोगों को देखने को भी मिलता है।
  • Language: जैसा कि हमने आपको ऊपर ही बताया कि एचटीएमएल एक लैंग्वेज होता है, जोकि वेब डॉक्यूमेंट को बनाने के लिए कोड वर्ड के रूप में उपयोग किया जाता है, जिन्हें हम एक तरीके से टैग भी कह सकते हैं। दोस्तों इन सभी टेक्स्ट को लिखने के लिए एचटीएमएल का एक इंटेक्स उपयोग किया जाता है, इसीलिए यह एक लैंग्वेज भी कही जाती है। दो समान एंगल ब्रैकेट के बीच में कुछ शब्द, अक्षर एवं चिन्ह लिखे रहते हैं, इन्हें ही एचटीएमएल टैग कहा जाता है।

Uses of computer in Hindi | कंप्यूटर का उपयोग

HTML syntax कौन-कौन से होते हैं?

HTML सिंटैक्स के मुख्य रूप से 3 भाग होते हैं, जो कि निम्नलिखित है;

  1. Element
  2. Tag
  3. Text

HTML एलिमेंट मुख्य रूप से एचटीएमएल टैग से मिलकर बना होता है। एंगल पैकेट के मध्य में जो शब्द लिखे होते हैं, उन्हें ही एचटीएमएल टैग कहा जाता है। HTML टैग मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं पहला ओपनिंग टैग और दूसरा क्लोजिंग टैग।

HTML का इतिहास

आइए अब हम सभी लोग जानते हैं, एचटीएमएल के प्राचीन इतिहास के विषय में और जानते हैं, एचटीएमएल के खोज करने वाले व्यक्ति के विषय में।

जैसा कि हमने आपको ऊपर ही बताया कि एचटीएमएल का विकास 90 के दशकों में ही हो गया था और एचटीएमएल का विकास वर्जन के रूप में वर्तमान समय में भी जारी है। एचटीएमएल का विकास करने वाली एक विशेष भाषा होती है, जिसके अब तक अनेकों प्रकार के नए नए वर्जन जा चुके हैं, जिन्हें आप बड़ी ही आसानी से सीख सकते हैं।

HTML के खोज का श्रेय टिम बर्नर्स ली को जाता है। इन्होंने ही एचटीएमएल की खोज की और इसका विकास भी किया। तिम बर्नर्स ली ने ही HTML के साथ-साथ URL को भी विकसित किया।

वर्तमान के दशक में एचटीएमएल के विकास की पूरी की पूरी जिम्मेदारी एक संस्थान को दी गई है, जिसे वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्सियम कहा जाता है। वर्ल्ड वाइड वेब संस्थान ही वर्तमान समय में एचटीएमएल का उपयोग एवं एचटीएमएल का विकास कर रही है।

HTML के वर्जंस

वर्तमान समय में एचटीएमएल के बहुत सारे वर्जन मार्केट में लॉन्च हो चुके हैं। हम सभी लोगों को एचटीएमएल के प्रत्येक वर्जन में कुछ ना कुछ नया एलिमेंट जरूर देखने को मिलता है। आइए अब हम सभी लोग जानते हैं, एचटीएमएल के कुछ विशेष वर्जन के बारे में;

  • HTML 1.0: एचटीएमएल का यह वर्जन बहुत ही पुराना है और जिसमें एचटीएमएल की शुरुआत हुई थी, उसी समय से इस प्रकार के एचटीएमएल का उपयोग किया जा रहा था, परंतु बाद में कई सुधारों के बाद इसे सही किया गया।
  • HTML 2.0: बाद में एचटीएमएल में और भी सुधार किए गए और वर्ष 1995 ईस्वी में एचटीएमएल का एक दूसरा वर्जन मार्केट में लांच किया गया, जिसे एचटीएमएल 2.0 का नाम दिया गया।
  • HTML 3.0: हालांकि एचटीएमएल 2.0 काफी ज्यादा प्रचलन में था, परंतु इस पर ज्यादा व्यस्त हो जाने के कारण इसकी स्पीड स्लो हो गई थी, जिसके कारण बाद में एचटीएमएल 3.0 लॉन्च किया गया। HTML 3.0 को बनाया तो गया था, परंतु इसे प्रकाशित नहीं किया गया इसके पीछे क्या रीजन है, अब तक तो नहीं पता चला है।
  • HTML 3.2: एचटीएमएल के इस वर्जन को वर्ल्ड वाइड वेब के अंतर्गत शुरू किया गया था वर्ल्ड वाइड वेब ने वर्ष 1997 ईस्वी में एक अपडेट के माध्यम से एचटीएमएल 3.2 को पब्लिश किया था।
  • HTML 4.0: वर्ष 1997 ईस्वी में वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्सियम के माध्यम से एचटीएमएल 4.0 को रिलीज किया गया। यह एक ऐसा एचटीएमएल कोड था, जो किसी भी ब्राउज़र के स्पेसिफिक एलिमेंट और attributes को जोड़ता था।
  • HTML 4.01: एचटीएमएल 4.01 को वर्ष 1999 ईस्वी में रिलीज किया गया। इस एचटीएमएल के वर्जन को भी वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्सियम के द्वारा ही लांच किया गया था।
  • HTML 5: वर्तमान समय में एचटीएमएल का सबसे लेटेस्ट वर्जन html5 मार्केट में आ चुका है और इसमें एचटीएमएल 4.01 की विशेषताओं के अलावा एक्सएमएल की विशेषताओं को भी जोड़ा गया है। 

HTML का उपयोग कहां और कैसे किया जाता है?

एचटीएमएल का उपयोग सिर्फ और सिर्फ वेब डाक्यूमेंट्स बनाने तक ही नहीं किया जाता है, एचटीएमएल का उपयोग अन्य स्थानों पर भी किया जाता है, जिनका विवरण नीचे निम्नलिखित प्रकार से है;

  • नेविगेशन को सफलतापूर्वक सक्रिय बनाने के लिए एचटीएमएल का उपयोग किया जाता है।
  • विशेष रुप से वेब पेज डेवलपमेंट के लिए भी एचटीएमएल कोड का उपयोग किया जाता है।
  • HTML code का उपयोग गेम बनाने और पीएम को डिवेलप करने के लिए भी किया जाता है।
  • Responsive graphics को विकसित करने के लिए एचटीएमएल कोड का उपयोग किया जाता है।
  • इतना ही नहीं इन सभी के साथ साथ वेब डॉक्यूमेंट फॉर्मेटिंग के लिए भी एचटीएमएल कोड का उपयोग किया जाता है।

FAQ About Html Ka Full Form

Q. एचटीएमएल क्या होता है?

Ans. इसके लिए लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

Q. एचटीएमएल का फुल फॉर्म क्या होता है?

Ans. Hypertext markup language होता है

Q. एचटीएमएल का उपयोग सबसे पहले किसने किया था?

Ans. Tim berners-lee

Q. एचटीएमएल का क्या उपयोग होता है?

Ans. इसके लिए भी लेख को अंत तक पढ़े।

Q. एचटीएमएल का लेटेस्ट वर्जन कौन सा है?

Ans. HTML 5

निष्कर्ष:-

हम आप सभी लोगों से उम्मीद करते हैं, कि आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखा गया यह Html Ka Full Form लेख अवश्य ही पसंद आया होगा।

यदि आप सभी लोगों को हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख वाकई में पसंद आया हो, तो कृपया इसे अवश्य शेयर करें और यदि आप सभी लोगों के मन में इसको लेकर किसी भी प्रकार का कोई भी सवाल या फिर सुझाव है, तो कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

Share on:

मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं?, आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। धन्यवादGmail ID - [email protected]

Leave a Comment