GPS Ka Pura Naam Kya Hai – जीपीएस का पूरा नाम क्या है

नमस्कार दोस्तों अगर आप कहीं भी जाते है और उस जगह का रास्ता भूल जाते है तो Google Maps का इस्तेमाल जरूर करते होंगे। लेकिन क्या आपको मालूम है कि Google Maps उस स्थान का सही Location कैसे जानता हैं। सही Location का पता लागने के लिए GPS तकनीक का प्रयोग किया जाता है। 

आजकल GPS का इस्तेमाल सभी इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स और वाहनों में भी किया जा रहा है लेकिन क्या आप जानते हैं कि GPS क्या होता है। आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से GPS Ka Pura Naam क्या है, GPS कैसे काम करता है इत्यादि के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं। अगर आपको भी GPS के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना है तो इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़ें।

GPS क्या है जानने से पहले आइए जानते हैं कि GPS का पूरा नाम यानी GPS का फुल फॉर्म क्या होता है।

GPS Ka Pura Naam Kya Hai?

GPS Ka Pura Naam ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम होता है यानी कि GPS Full Form – Global Positioning System जिसे शार्ट में GPS कहा जाता है।

What Is GPS In Hindi | GPS क्या है?

GPS एक रेडियो नेवीगेशन सैटलाइट सिस्टम है जिसका इस्तेमाल किसी भी जगह का सटीक Location, समय और पोजीशन जानने के लिए किया जाता है। इसे सेटेलाइट द्वारा नेविगेशन और ऑपरेट किया जाता है। GPS का आविष्कार अमेरिका ने 1960 के दशक में किया था। 

History Of GPS की बात करें तो इसका प्रयोग अमेरिका ने 26 April, 1959 को पहली बार अपने पनडुब्बी जहाज को ट्रैक करने के लिए किया था इसकी सफलता के बाद अमेरिका ने GPS का प्रयोग सभी सेनाओं और मिसाइलों को सुरक्षा और उसे ट्रैक करने के लिए किया था। 

जब GPS का प्रयोग कारगर रहा तो 1980 से आम नागरिकों के लिए शुरू कर दिया गया था। लेकिन 1995 में पूरी दुनिया के लिए GPS तकनीक की शुरुआत किया गया था। GPS के लिए 32 सेटेलाइट को पृथ्वी से 26600 किलोमीटर की ऊंचाई पर अंतरिक्ष और उसके ऑर्बिट में स्थापित किया गया है। इसकी मदद से GPS के द्वारा Location के आलावा मौसम की स्तिथि और समय की जानकारी प्राप्त किया जाता है। इन सभी सेटेलाइट का नियंत्रण अमेरिका के द्वारा किया जाता है। 

हालाकि कई देश ने खुद के GPS सिस्टम भी बना चुके है। भारत ने भी कारगिल युद्ध के बाद अपना Navigation System IRNSS का अविष्कार किया था। IRNSS Full Form – Indian Regional Navigation Satellite System होता है। यह नेविगेशन प्रणाली केवल भारत में ही वर्क करता है। GPS एक फ्री नेटवर्क है जिसे इस्तेमाल करने के लिए आम आदमी को किसी प्रकार का शुल्क नहीं देना पड़ता है।

इसे भी पढ़े –

GPS का उद्देश्य है?

GPS बनाने का मुख्य उद्देश्य किसी भी स्थान की सही Location के बारे में पता लगाना है। अमेरिका ने सर्वप्रथम GPS अपने पनडुब्बी जहाज को ट्रैक करने के लिए बनाया था। हालांकि इसके बाद GPS में काफी बदलाव किया गया जिसकी मदद से मौसम, समय और रूट की जानकारी प्राप्त किया जाता है।

GPS कैसे काम करता है?

जैसा कि ऊपर में बताया गया है कि GPS अंतरिक्ष में स्थापित उपग्रह की मदद से कार्य करता है। 

हमारे स्मार्टफोन या किसी भी GPS यूनिट में एक रिसीवर लगा होता है जो सेटेलाइट से भेजे गए Signal को रिसीव करता है। पृथ्वी के ऑर्बिट में चक्कर लगा रही प्रत्येक GPS सेटेलाइट एक निश्चित समय अंतराल के बाद Signal भेजते रहते हैं Signal में उस सेटेलाइट की

करंट पोजीशन ऑफ Signal भेजे जाने का टाइम दिया होता है। टाइम की सटीक गणना के लिए प्रत्येक सेटेलाइट में एक एटॉमिक क्लॉक का इस्तेमाल किया जाता है। 

जब इन सेटेलाइट के द्वारा भेजे गए Signal पृथ्वी पर मौजूद किसी GPS रिसीवर के संपर्क में आते हैं तो रिसीवर इन संकेतों को रिसीव करके उन्हें रीड करता है। जैसे ही GPS रिसीवर को यह Signal प्राप्त होता है तो रिसीवर Signal प्राप्त होने के टाइम में से Signal भेजे जाने के टाइम को घटाकर पता कर लेता है Signal भेजने वाला सेटेलाइट उससे कितना दूरी और किस Location पर स्थित है। अगर GPS रिसीवर को 3 सेटेलाइट से Signal मिल जाए तो रिसीवर अपनी Location का निर्धारण कर सकता है। इस प्रकार से GPS कार्य करता है।

GPS का उपयोग

GPS का उपयोग नीचे दिए गए कार्यों के लिए उपयोग किया जाता है।

1. Location – GPS का उपयोग किसी भी जगह का सटीक स्थिति या पोजीशन को जानने के लिए किया जाता है।

2. Navigation – वर्तमान समय में GPS सिस्टम काफी ज्यादा डिवेलप कर चुका है इसलिए एक जगह से दूसरे जगह तक जाने के लिए इसका प्रयोग हो रहा है।

3. Tracking – आजकल GPS का प्रयोग किसी भी सामान या वस्तु को ट्रैक या उसके मूवमेंट पर नजर रखने के लिए किया जा रहा है।

4. Mapping – GPSपी के द्वारा हमारी पृथ्वी की सटीक मानचित्र समझने के लिए भी किया जाता।

5. Timing – GPS के द्वारा सटीक समय का पता लगाया जाता है।

GPS का प्रयोग कहां कहां किया जाता है?

इलेक्ट्रॉनिक उपकरण में

वर्तमान समय में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को सुरक्षित रखने के लिए GPS का प्रयोग किया जा रहा है जिसकी मदद से इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की सही Location और उसके मूवमेंट को पता लगा सके।

सेना में

GPS का इस्तेमाल ज्यादातर देश की सेना मिसाइल, रडार और पनडुब्बी जहाज को ट्रैक करने के लिए करता है। सर्वप्रथम अमेरिका ने अपनी फौज के लिए ही GPS का आविष्कार किया था।

विमान में

पूरी दुनिया में अधिकांश विमान GPS का इस्तेमाल सही Location और वास्तविक समय को जानने के लिए करता है। इसके अलावा दूसरे विमान को ट्रैक करने के लिए भी किया जाता है ताकि पायलट अपने आगे पीछे जाने वाले विमान की स्थिति को जानकर विमान को सुरक्षित रख सके।

समुद्री जहाज में

GPS का सबसे ज्यादा प्रयोग समुद्री जहाज पर किया जाता है क्योंकि समुद्री जहाज GPS के भरोसे ही सुरक्षित रह पाते हैं। समुद्री जहाज का पायलट GPS नेविगेशन की मदद से अपने स्थान तक पहुंच पाते हैं।

सड़क परिवहन में

सड़क परिवहन में भी GPS का उपयोग किया जाता है। GPS की मदद से कौन से रोड पर कितना ट्रैफिक है और कहा जाना है इसकी जानकारी मिल जाता है इसलिए अधिकतर गाड़ियों में GPS दिया रहता है।

GPS संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

Q. GPS का पूरा नाम क्या हैं?

GPS का पूरा नाम ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम है।

Q. सर्वप्रथम GPS का आविष्कार किसने किया था?

सर्वप्रथम GPS को अमेरिका के वैज्ञानिक Ivan A. Getting Bradford, Roger L. Easton और Parkinson ने साथ में मिलकर बनाया था।

Q. GPS Full Form In Hindi क्या है?

GPS Full Form In Hindi- ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम होता है।

Q. GPS कितने सेटेलाइट पर काम करता है?

अमेरिका ने GPS के लिए 70 से ज्यादा सेट लाइट को अंतरिक्ष में स्थापित कर चुका है लेकिन उनमें से 31 सेटेलाइट ही GPS के लिए काम करता है है।

Q.GPS का दाम कितना है?

वर्तमान समय में GPS डिवाइस की कीमत भारतीय बाजार में लगभग 3000 रुपया है।

निष्कर्ष :-

इस पोस्ट को अंत तक पढ़ने के बाद हम आशा करते हैं कि आपको “GPS Ka Pura Naam क्या होता है?” से सम्बंधित जानकारी लाभदायक लगी होंगी। इस पोस्ट के माध्यम से हमने आपके द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालो के जवाब आसान शब्दों में देने की कोशिश की है।

इस पोस्ट में GPS Ka Pura Naam क्या होता है? के अलावा GPS क्या है और GPS कैसे काम करता है इत्यादि टॉपिक के बारे में विस्तार से बताया गया है। अगर आपके मन मे GPS से संबंधित अन्य जानकारी जानना है तो कमेंट जरुर करें।

अगर आप इस जानकारी से संतुष्ट है तो आप अपने सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर इस पोस्ट को शेयर जरूर करें ताकि आपके दोस्तो को भी GPS क्या है के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published.