Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai – गोल्ड फिश के बारे में पूरी जानकारी

दोस्तों आजकल इंटरनेट पर Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai के बारे में कुछ जानकारी सर्च की जा रही है। अगर आपको जानना है कि गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है? तो ऐसे में आपको हमारा आज का यह महत्वपूर्ण लेख शुरू से लेकर अंतिम तक जरूर पढ़ना चाहिए। हम आपको इस महत्वपूर्ण लेख में गोल्डफिश से संबंधित लगभग सभी प्रकार की आवश्यक जानकारियों के बारे में पूरी विस्तार पूर्वक से जानकारी देंगे इसीलिए लेख में दी गई जानकारी को बिल्कुल भी मिस ना करें और हमारे इस लेख को अंतिम तक जरूर पढ़ें।

अनुक्रम दिखाएँ

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

दोस्तों गोल्ड फिश के बारे में जाने से पहले हम इससे जुड़ी हुई कुछ आवश्यक जानकारियों के बारे में नीचे टेबल के माध्यम से जान लेते हैं ताकि हमें इसके बारे में थोड़ा पहले से पता हो तभी हमें आगे की जानकारी आसानी से समझ में आ सकती है। 

Goldfish Ka Scientific Naam Kya HaiCarassius Auratus ( कैरासियस ऑराटस )
हिंदी में गोल्ड फिश का नामगोल्ड फिश को हिंदी में सुनहरी मछली कहते हैं
गोल्डफिश का जीवनकालगोल्डफिश का संपूर्ण जीवन काल 10 से लेकर 15 वर्षों का होता है
गोल्डफिश की जातिगोल्डफिश की जाति कैरासियस है 
गोल्डफिश का निवास स्थानगोल्डफिश का निवासस्थान मीठा पानी है
गोल्डफिश का कुल वजनगोल्डफिश का कुल वजन 4.5 केजी तक होता है
गोल्ड फिश की लंबाईगोल्ड फिश की लंबाई अमूमन 45 सेंटीमीटर तक हो सकती है
गोल्डफिश का पीएच रेंजगोल्डफिश का पीएच रेंज 6.5 से 8.5 के बीच का होता है 
गोल्डफिश का भोजनगोल्डफिश का भोजन शैवाल, लार्वा, कीट इत्यादिहोता है
गोल्ड फिश कहां पाई जाती हैगोल्डफिश चीनी तालाबों में पाई जाती है।

गोल्डफिश के प्रकार 

दोस्तों हमने अब तक गोल्ड फिश मछली के बारे में लगभग बहुत कुछ जाना है और अब चलिए हम लोग गोल्ड फिश कितने प्रकार की होती है? के बारे में भी जान लेते हैं नीचे हमने गोल्ड फिश मछली के सभी  प्रकारों का वर्णन किया हुआ है। गोल्ड फिश लगभग अपने 20 अलग-अलग प्रजातियों के लिए जानी जाती है। जिनका विस्तार पूर्वक नीचे हमने वर्णन किया हुआ है। 

कॉमन गोल्डफिश
शुबुकिंन गोल्डफिश
कॉमेट गोल्डफिश 
रैंचू गोल्डफिश
रयुकिन गोल्डफिश
टेलीस्कोप गोल्डफिश
कैलिको गोल्डफिश
बबल आई गोल्डफिश
फैंटेल गोल्डफिश
लॉयनहैड गोल्डफिश
बटरफ्लाई टेलिस्कोप गोल्डफिश
वीलटेल गोल्डफिश
ऐग्ग-फिश गोल्डफिश
ओरांडा गोल्डफिश
पॉम्पॉम गोल्डफिश
सेलेशियल आई गोल्डफिश
सफेद टेलीस्कोप
पांडा मूर 
टोसाकिन
शुकिन

ध्यान दें – अब चलिए हम लोग गोल्डफिश कि इन सभी अलग-अलग प्रजातियों के बारे में लिखें विस्तार पूर्वक से जान लेते हैं ताकि हमको गोल्डफिश के प्रत्येक प्रजाति के बारे में जानकारी हो।

कॉमन गोल्डफिश

कॉमन गोल्डफिश सुनहरी मछली की ही एक सामान्य प्रजाति है। इस किस्म की मछली का अपने पूर्वजों (Prussian carp) के रंग और आकार के आधार पर कोई अंतर देखने को नहीं मिलता है। कॉमन गोल्डफिश पालतु जंगली कार्प का ही एक रूप है। फैंसी गोल्डफिश की अधिकांश किस्में इसी साधारण नस्ल से आई हैं।

शुबुकिंन गोल्डफिश

इस किस्म की मछली कॉमन गोल्डफिश और धूमकेतु गोल्ड फिश मछली की तरह ही दिखती है। सुनहरी मछली के इस किस्म को सबसे पहले जापान में क्रॉसब्रीडिंग के द्वारा पैदा किया गया था।

कॉमेट गोल्डफिश

सुनहरी मछली के इस किस्म कॉमेट गोल्डफिश को अमेरिका में विकसित किए जाने का काम पूरा किया गया था। सुनहरी मछली की यह किस्म कॉमन गोल्डफिश के ही समान होती है परंतु ये थोड़ी छोटी और पतली होती है और इतना ही नहीं मुख्य रूप से इसकी लंबी गहरी कांटेदार पूंछ कॉमन गोल्डफिश से अलग है। कॉमेट गोल्डफिश आपको बाजार में कई रंगों में देखने को मिल जाएगी।

इसे भी पड़े – MRP Ka Full Form क्या होता है – एमआरपी का मतलब क्या होता है

रैंचू गोल्डफिश

रैंचू गोल्डफिश जापान की एक हुड वाली किस्म वाली मछली है। जापान में इस किस्म की मछली को ‘किंग ऑफ गोल्डफिश’ के नाम से भी जाना जाता है। 

रयुकिन गोल्डफिश

इस प्रकार की गोल्डफिश का आकार छोटा, गहरा और इसके उभरे हुए कंधे इसको और भी ज्यादा आकर्षक बनाते हैं।

टेलीस्कोप गोल्डफिश

टेलिस्कोप गोल्डफिश को सबसे पहले चीन में सन 1700 में विकसित करने का काम किया गया था। सुनहरी मछली की यह जाति बढ़ी हुई आंखों को छोड़कर, डेमकिन रयुकिन और फैंटेल की तरह ही देखी जा सकती है। इस मछली का शरीर गहरा और इसके पंख लंबे आकार के होते हैं। और इतना ही नहीं इसमें कुछ पंख छिपे हुए, कुछ चौड़े और कुछ छोटे होते हैं।

कैलिको गोल्डफिश

इस मछली का नाम कैलिको गोल्डफिश इसलिए रखा दिया क्योंकि जब इसे विकसित करने का काम किया गया था तब इसके शरीर पर अनेकों प्रकार के अलग-अलग रंग के धब्बे पाए गए थे और तब से इसको इसी विशेषता के रूप में ही जाना जाता है। कैलिको गोल्डफिश पर अक्सर लाल, पीले, भूरे और काले रंग के धब्बे होते हैं और नीले रंग की पृष्ठभूमि पर गहरे रंग के धब्बे होते हैं। यह सभी आमतौर पर  रंग मछली के पंखों पर दिखाई देते हैं जो इसके सुंदरता को चार चांद लगाते हैं।

बबल आई गोल्डफिश

बबल आई गोल्डफिश सुनहरी मछली की एक छोटी सी और फैंसी जाति होती है। इसकी दोनों आंखें बबल के समान दिखाई देती है जो अपनी तरफ सभी का ध्यान आकर्षित करती है। इस मछली की एक साफ पीठ और आंखें बुलबुले की तरह होती हैं जो मछली के रंग से मेल खाती हैं। 

फैंटेल गोल्डफिश

इस मछली का आकार अंडे की तरह बिल्कुल दिखाई देता है। इस मछली के पीठ पर उंचे पंख और एक लंबी चौगुनी पूंछ का पंख भी होता है। इसके कंधे पर किसी तरह का कूबड़ नहीं होता है। यह रयुकिन के समान है और ज्यादातर यह मछली पश्चिमी देशों में पाई जाती है।

लॉयनहैड गोल्डफिश

यह मछली लायनहेड्स आकार में छोटी लेकिन गहरे शरीर की होती हैं, और इसकी पीठ पर पंख नहीं होते। इसकी धनुषाकार पीठ होती है। इस मछली का लुक अन्य  सुनहरी मछली के मुकाबले काफी ज्यादा अलग होता है और इसकी मांग भी काफी ज्यादा देखी जाती है क्योंकि इससे लोग जरा तरह अपने  एक्वेरियम में सजा ना पसंद करते हैं।

बटरफ्लाई टेलिस्कोप गोल्डफिश

यह मछली टेलीस्कोपिक की ही एक वैरीअंट कहलाती है। अगर इस मछली को ऊपर की तरफ से देखा जाए तो इसके पंख तितली की तरह दिखाई देते हैं। इस मछली के वैरीअंट को अभी कुछ इसी साल पहले विकसित करने का काम पूरा किया गया था। बटरफ्लाई टेलीस्कोप गोल्ड फिश मछली पर काले, नीले और संतरी रंग के धब्बे आपको आसानी से देखने को मिल जाएंगे।

वीलटेल गोल्डफिश

इस प्रकार की किस्म की मछली का आकार दोगुना होता है और इसकी पूछ भी अन्य सुनहरी मछली के मुकाबले काफी बड़ी होती है। अगर आप इसके पीठ को ध्यान से देखोगे तो इसके पेट का आकार धनुष के आकार का दिखाई देता है। इस मछली का आकार लगभग रयुकिन की ही तरह दिखाई देता है और इसका रंग सुनहरा होता है।

ऐग्ग-फिश गोल्डफिश

यह गोल्डफिश की एक फैंसी जाती है और इसकी विशेषता यह है कि इसके पंख नहीं होते हैं। ये लगभग अंडे के आकार की होती है। ये बिल्कुल रांचु गोल्डफिश की तरह दिखाई देती है। ये आकार में लंबी होती है लेकिन इसका सिर रांचु की तरह नहीं होता।

ओरांडा गोल्डफिश

अगर इस मछली की विशेषता की बात करें तो इसके सिर पर एक बड़ा सा हुड होता है। इसके बड़े-बड़े खुद को इस मछली का ओरांडा का ताज भी कह कर बुलाया जाता है। इसकी एक बड़ी पूंछ होती है और पीठ पर भी एक बड़ा पंख होता है। इसका पेट अंडे के आकार का दिखाई देता है।

पॉम्पॉम गोल्डफिश

पॉम्पॉम गोल्डफिश बिल्कुल अलग दिखने वाली फिश है इस मछली का रंग दिखने में बैगनी होता है और इसकी  ढीले मांस की गांठ होती है। इसके शरीर का आकार ओरांडा और लॉयन हैड की तरह ही होता है। 

सेलेशियल आई गोल्डफिश

सेलेशियल आई गोल्डफिश की आंखें बिल्कुल बबल आई गोल्डफिश की तरह ही उपर की तरफ देखती हुई होती लगती हैं और इस मछली की दोनों आंखें बिल्कुल बबल की तरह ही दिखाई देती है। इस मछली के सुनहरे संतरी रंग की इस मछली में दो पूंछ रहती हैं।

सफेद टेलीस्कोप

वाइट टेलीस्कोप मछली सुनहरी मछली का एक अलग ही वैरीअंट है दूरबीन सुनहरी एक सफेद शरीर और आंखों फैला हुआ की एक विशेषता जुड़ी हुई है जो कि अन्य सुनहरी मछली के जाति के मुकाबले इसे अलग बनाने का काम करती है।

पांडा मूर

सुनहरी मछली का यह एक अलग ही वैरीअंट है और इसका सजावटी पांडा मूर का काली और सफेद आकृति और उभड़नेवाली आंखे ही इसकी विशेषता है जो इसे अन्य सुनहरी मछली के मुकाबले अलग बनाती है।

टोसाकिन

इस मछली के पीछे पंख एक बड़ी पूंछ के साथ सुनहरी मछलियों के एक बहुत विशिष्ट नस्ल, इसकी पूंछ नीचे की तरफ एक फनी अंदाज में झुकी होती है जो इसे और भी अच्छी लुक प्रदान करने में अपनी भूमिका निभाती है। हालांकि तकनीकी रूप से एक विभाजित पूंछ, दो हिस्सों को केंद्र/मध्य में एक ही पंख बनाने के लिए जोड़ा जाता है।

शुकिन से विकसित एक रंजू की तरह सुनहरी है रंजू और ओरेन्डस जापान में 19 वीं सदी के अंत में। विकसित की गई थी। 

गोल्ड फिश मछली की देखभाल कैसे की जाती है 

अगर आप किसी भी मछली को पालना चाहते हैं तो आपको उसकी देखभाल पर विशेष रूप से ध्यान देना बेहद जरूरी है। गोल्डफिश जैसी मछली को पालने के लिए आपके पास एक अच्छा और बड़े आकार का कांच का एक्वेरियम होना चाहिए ताकि मछली इसमें रह सके और इतना ही नहीं जो चीजें आवश्यक होती है उन सभी चीजों को एक्वेरियम में रखना बेहद जरूरी है। जैसे कि मछली को पसंद आने वाला खाना, वेंटिलेशन की व्यवस्था, समुंद्र में पाए जाने वाले कुछ मुख्य भाग और अन्य आवश्यक चीजें जरूर रखें। अगर आप एक्वेरियम नहीं लाना चाहते हो तो कोई बात नहीं आप इसकी जगह पर बड़े से शीशे का बाबुल भी आप इस्तेमाल में ले सकते हो।

गोल्ड फिश मछली के बारे में कुछ इंटरेस्टिंग फैक्ट

चलिए हम लोग गोल्ड फिश मछली के बारे में कुछ इंटरेस्टिंग फैक्ट के बारे में भी जान लेते हैं ताकि आज इस विषय पर हमारी जानकारी पूरी हो सके और हमें गोल्ड फिश के बारे में लगभग सभी चीजें मालूम हो। गोल्डफिश के इंटरेस्टिंग फैक्ट के बारे में जानने के लिए नीचे दिए गए पॉइंट को ध्यान से समझे।

  • गोल्ड फिश मछली सबसे ज्यादा चीन में पाई जाती है।
  • इस मछली की पलकें नहीं होते और यह मछली अपनी आंखें खोल कर सोती है।
  • गोल्ड फिश बिना कुछ खाए पिए करीम 2 सप्ताह तक बड़ी ही आसानी से जीवित रह सकती है।
  • अगर गोल्डफिश को मीठा तालाब या फिर कोई साफ-सुथरा पानी मिल जाए तो यह करीब 30 से लेकर 40 साल के बीच आसानी से जीवित रह सकती है।
  • गोल्ड फिश स्मरण शक्ति बहुत ही ज्यादा समय तक होती है।
  • इतनी सी मछली पाली जाती है उनमें सबसे ज्यादा लोग गोल्ड फिश मछली को पालना पसंद करते हैं। 

गोल्डफिश का साइंटिफिक नेम क्या है? से संबंधित पूछे जाने वाले कुछ प्रश्न एवं उनके उत्तर

यहां पर हमने गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम क्या है? से संबंधित आप लोगों द्वारा पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर दिए हुए हैं एक बार इन प्रश्नोत्तर को अवश्य पढ़ें।

Q. गोल्ड फिश को हिंदी में क्या कहते हैं?

गोल्ड फिश को हिंदी में ‘सुनहरी मछली’ के नाम से भी जाना जाता है।

Q. गोल्डफिश का आकार कितना होता है?

गोल्ड फिश मछली 12 in(30 cm) लंबाई तक विकसित होती है।

Q. गोल्डफिश किस देश में पाई जाती है?

गोल्ड फिश ज्यादातर चीन में ही पाई जाती है।

Q. गोल्डफिश का भोजन क्या है?

गोल्ड फिश मछली सर्वाहारी प्रजाति की है और इसीलिए यह सब कुछ खा सकती है इसका प्रमुख भोजन जलीय पौधे,समुद्री कीड़े मकोड़े, दलिया, मक्का या फिर अंडे की जर्दी आदि यह मछली आसानी से खा सकती है और इसका यही प्रमुख भोजन माना जाता है।

निष्कर्ष

हमने अपने आज के इस महत्वपूर्ण लेख में आप सभी लोगों को Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai के बारे में पूरी विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान की हुई है और हमें उम्मीद है कि गोल्डफिश से संबंधित प्रस्तुत किया गया हमारा आज का यह महत्वपूर्ण ले आपके लिए काफी उपयोगी साबित हुआ होगा और आपको हमारे द्वारा दी गई यह जानकारी आसानी से समझ में भी आई होगी।

अगर आपको हमारी आज की यह जानकारी पसंद आई हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूले ताकि अन्य लोगों को भी गोल्डफिश से संबंधित इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में आप के जरिए पता चल सके एवं उन्हें ऐसा ही महत्वपूर्ण लेख को पढ़ने के लिए कहीं और बार-बार भटकने की बिल्कुल भी आवश्यकता ना हो।

अगर आपके मन में हमारे आज के इस लेख से संबंधित कोई भी सवाल या फिर कोई भी सुझाव है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हो हम आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया का जवाब शीघ्र से शीघ्र देने का पूरा प्रयास करेंगे और हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को अंतिम तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद एवं आपका कीमती समय शुभ हो। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.