End to end encryption meaning in hindi – एंड टू एंड इंक्रिप्टेड का मतलब क्या होता है

Rate this post

End to end encryption meaning in hindi जब आप कभी व्हाट्सएप पर किसी से बात कर रहे होंगे तो आपने देखा होगा कि ऊपर में End to end encryption लिखा हुआ होता है इसके अलावा और भी ऐसे बहुत सारे ऐप है जहां इस शब्द का इस्तेमाल आपने देखा होगा इस शब्द का आखिर क्या मतलब होता है

यह समझाने के लिए आज के इस लेख में हम आपको End to end encryption meaning in hindi के बारे में बताने जा रहे है। आजकल व्हाट्सएप के प्रचार में भी इस शब्द का इस्तेमाल किया जा रहा है इसका एक खास अर्थ होता है, इसे सुरक्षा के लिए लगाया जाता है मगर वह कैसे होती है इस बात को विस्तार पूर्वक नीचे बताया गया हैं। 

End to end encryption meaning in hindi

क्या आपने कभी सोचा है कि अगर गूगल पर या फोन पर जैसे ऐप पर आपके पैसे दिखाए जाते है तो क्या उस कंपनी के मालिक आपके पैसे को देख सकते है। वहीं दूसरी तरफ अगर व्हाट्सएप पर आप किसी से बात कर रहे है तो क्या व्हाट्सएप के मालिक मार्क ज़ुकेरबर्ग आप की सीक्रेट बातों को पढ़ सकते है। 

ऐसे बहुत सारे सवाल अक्सर हमारे मन में आते हैं इनका जवाब है नहीं। और यह नहीं जवाब केवल End to end encryption की वजह से है। 

यह एक खास प्रक्रिया है जिससे ऑनलाइन दो मोबाइल या कंप्यूटर के बीच संवाद होता है इसके अलावा एंड टो एंड इंक्रिप्शन की जरूरत है तब पड़ती है जब हम किसी ऐसे जानकारी को साझा करते है जिसे हम किसी तीसरे इंसान के साथ बांट नहीं सकते। 

यह एक प्रक्रिया है जिसमें दो लोगों के बीच साझा हो रही जानकारी को किसी तीसरे व्यक्ति से बचा कर रखते है। 

इंक्रिप्शन का क्या मतलब होता है

जब भी हम किसी जानकारी को व्हाट्सएप के जरिए या फोन पर गूगल पर जैसी एप्स के जरिए जानकारी साझा करते है वह जानकारी एक सीक्रेट कोड में बदल जाता है उस सीक्रेट कोड को इंक्रिप्टेड डाटा कहते है। जब आप इस जानकारी को किसी के साथ साझा करते हैं और यह इंक्रिप्टेड डाटा किसी के मोबाइल में जाता है तो इस प्रक्रिया को इंक्रिप्शन कहते हैं।

इस जानकारी को आगे पढ़ने के लिए उससे इंक्रिप्टेड डाटा को असली फॉर्मेट में बदलना पड़ता है जिस प्रक्रिया को डिक्रिप्शन कहते है। उस डाटा का डिक्रिप्शन होता है और वह जानकारी अपने असली फॉर्मेट में बदल जाती है जिसके पश्चात आपका काम आसानी से पूर्ण होता है।  

End to end encryption कैसे काम करता है

इस प्रक्रिया में कंप्यूटर के कुछ कोड होते है जब आप किसी बात या जानकारी को किसी दूसरे कंप्यूटर या मोबाइल पर साझा करते है तो कंप्यूटर आपकी बात को कंप्यूटर कोड में बदलता है वह कंप्यूटर कोड जब दूसरे व्यक्ति के मोबाइल में जाता है तो वह ह्यूमन लैंग्वेज में बदल जाता है और उसके बाद वह आप की जानकारी को पढ़ पाता है। 

यह एक काफी प्रचलित प्रक्रिया है जिसका इस्तेमाल हम अपनी जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए करते है। जब आपकी किसी भी जानकारी को कंप्यूटर कोड में बदला जाता है और वह जानकारी केवल उस व्यक्ति के कंप्यूटर पर जाकर ही सही फॉर्मेट में बदल पाएगा किसी तीसरे व्यक्ति के इंटरफेयर करने पर इस जानकारी को पढ़ा नहीं जा सकता।

अर्थात आसान भाषा में आप इस प्रक्रिया को ऐसे समझ सकते हैं कि जब आपने किसी चीज को अपने मित्र के साथ साझा किया तो आपके द्वारा साझा की गई जानकारी एक ऐसे कंप्यूटर कोर्ट में बदल जाती है जो केवल आपके मित्र के मोबाइल पर जाकर ही आपकी जानकारी का रूप ले पाएगी अन्यथा बीच में अगर किसी ने भी इस जानकारी पर इंटरफेयर करने की कोशिश की तो वह उस कंप्यूटर कोड को ही देख पाएगा जिससे वह समझ नहीं पायेगा कि यह क्या जानकारी लिखी हुई है। 

इसी तरीका का इस्तेमाल करती है गूगल पे और फोन पे जैसी कंपनी जब आप किसी पैसे का भुगतान करने वाली ऐप का इस्तेमाल करते है तो आप सिर्फ पैसे का भुगतान करते है और वह कंप्यूटर कोड में बदल जाता है और वह कोड जब आपके पैसे लेने वाले के अकाउंट में पहुंचता है तभी जानकारी का रूप ले पाता है अर्थात आपके अकाउंट में कितना पैसा है आपने कितना और पैसा भेजा इस प्रकार की जानकारी कोई भी तीसरा व्यक्ति नहीं जान सकता है आपने क्या किया यह आपको पता है और आपने जिस जानकारी को साझा किया वह जानकारी के लेने वाले को पता होता है। 

इसे भी पड़े

2022 में WhatsApp Se Paise Kaise Kamaye ( 10 Best तरीके)- (Earn ₹2000+ Daily )

 FAQ About End to end encryption meaning in hindi

Q. इंक्रिप्शन किसे कहते हैं?

जब हम किसी जानकारी को व्हाट्सएप पर या किसी अन्य ऐप के जरिए साझा करते है तो वह जानकारी एक सीक्रेट कोड में बदल जाती है जब वह जानकारी साझा किए हुए कंप्यूटर के पास पहुंचती है तभी वह अपने असली फॉर्मेट में बदल पाती है इस पूरी प्रक्रिया को इंक्रिप्शन कहते हैं।

Q. डिक्रिपशन का मतलब क्या है?

 जब आप किसी जानकारी को साझा करते हैं और वह एक सीक्रेट कोड में बदल जाती है तो पुनः जब वह सीक्रेट कोड एक असली जानकारी में परिवर्तित होती है तो इस प्रक्रिया को हम डिक्रिप्शन कहते हैं।

Q. End to end encryption का क्या मतलब है?

इसका मतलब होता है कि जब हम किसी जानकारी को किसी के साथ साझा करते है तो वह जानकारी कोड में परिवर्तित हो जाएगी और जब वह है साझा किए हुए व्यक्ति के मोबाइल में पहुंचेगी तभी वह पुनः असली फॉर्मेट की जानकारी में बदल पाएगी। 

Q. इंक्रिप्शन का इस्तेमाल हम क्यों करते हैं?

आप की जानकारी को कोई भी तीसरा व्यक्ति ना पढ़ सके साथ ही आपके साथ साझा की हुई जानकारी को कोई भी छेड़छाड़ ना हो इसके लिए कंपनी इंक्रिप्शन प्रक्रिया का इस्तेमाल करती है।

निष्कर्ष

हमने अपने आज के इस महत्वपूर्ण लेख में आप सभी लोगों को End to end encryption meaning in hindi के बारे में विस्तार पूर्वक से जानकारी प्रदान की हुई है। हमें उम्मीद है कि अब आपको इंट एंड टू एंड इंक्रिप्टेड के बारे में अच्छे से जानकारी पता चल चुकी होगी और आप इसके बारे में कहीं और आज के इस विषय से संबंधित आपको जानकारी जानने के लिए कहीं और भटकने की आवश्यकता नहीं होगी। 

अगर आपको आज का हमारा यह लेख अच्छा लगा हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ और अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल पर शेयर करना ना भूले ताकि अन्य लोगों को भी आप के माध्यम से इस महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में पता चल सके। अगर आपके मन में हमारे आज के इस लेख से संबंधित कोई भी सुझाव या फिर कोई भी सवाल है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते हो हम आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया का शीघ्र से शीघ्र जवाब देने का पूरा प्रयास करेंगे। हमारे इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और आपका कीमती समय शुभ हो।

Share on:

मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं?, आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। धन्यवाद Gmail ID - [email protected]

Leave a Comment