ऑनलाइन डॉक्युमेंट वेरीफिकेशन कैसे करते हैं।

इस समय में प्रत्येक कंपनी अपने एंप्लाइज की पूर्णतया जांच करती है , इसके लिए वह exam ( government job ) , interview ( government job + private job ) इत्यादि परीक्षाएं लेती है। जिससे यह पता चल जाता है , कि किस एंप्लाइज को किस पद की नौकरी प्रदान कराई जाए।

सबसे महत्वपूर्ण बात यह हो जाती है , कि एंप्लाइज को इन सभी परीक्षाओं के बाद डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन करवाना होता है। Document verification लगभग सभी प्रकार के सरकारी एवं प्राइवेट जॉब में किया जाता है।

क्या आप जानते हैं , कि डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन क्या होता है , यदि नहीं तो यह ले आपके लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण होने वाला है , क्योंकि इस लेख के माध्यम से document verification की सभी जानकारियां जैसे कि डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन का उपयोग क्यों होता है

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन कहां होता है , डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन करवाने की पूरी प्रोसेस क्या होती है , इत्यादि। यदि आप डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं , तो कृपया इस लेख को अन्य तक अवश्य पढ़ें।

Document verification क्या होता है :-

जब आप कभी भी किसी ने जॉब को प्राप्त करने के लिए आवेदन करते हैं , तो उस कंपनी के माध्यम से आपका साक्षात्कार लिया जाता है और उसके बाद आपके पूर्व डॉक्यूमेंट की सत्यता की जांच की जाती है।

इस प्रक्रिया के माध्यम से आपके सर्टिफिकेट की तथा आपके अंको की जांच की जाती है , जिससे यह पता लगाया जाता है , कि आवेदन करता ही इस जॉब को प्राप्त कर रहा है या नहीं। इसके साथ साथ डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के माध्यम से एंप्लाइज के योग्यता के विषय में भी जानकारी प्राप्त हो जाती है।

Document verification internet की सहायता से किया जाता है और कभी-कभी तो इसकी सत्यता की जांच करने के लिए कंपनी सर्टिफिकेट प्रदान करने वाली संस्थाओं में जाकर इसका पता लगाती हैं।

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन क्यों किया जाता है :-

क्या आप जानते हैं , कि कोई भी कंपनी डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन क्यों करती है , यदि नहीं तो हम आपको बता देना चाहते हैं , कि कोई भी कंपनी डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन इसलिए करती है , ताकि एंप्लाइज के बारे में पूर्णतया जानकारी प्राप्त हो सकें।

कभी-कभी ऐसा होता है , कि कंपनी में जॉब के लिए आवेदन किसी और ने किया और उस जॉब का उपयोग कोई और व्यक्ति कर रहा है , इसी गड़बड़ी को ठीक करने के लिए सभी कंपनियां और सरकारी संस्थान जॉब प्रदान करने से पहले डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन करती हैं।

Document verification कब किया जाता है :-

जब एंप्लाइज आवेदन करने के बाद उस जॉब के लिए इंटरव्यू देने के लिए जाते हैं , तो इंटरव्यू खत्म होने के बाद यदि वे चयनित हो जाते हैं , तो उनके डॉक्यूमेंट की वेरिफिकेशन की जाती है। आपके डॉक्यूमेंट के वेरिफिकेशन के बाद यदि आपका डॉक्यूमेंट सही है , तो आपको डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद नियुक्ति पत्र प्रदान कराया जाएगा जिसके बाद आप उस जॉब को ज्वाइन कर पाएंगे।

Document verification कहां किया जाता है :-

जब आप किसी भी सरकारी संस्था या प्राइवेट संस्थाओं में जो पानी के लिए आवेदन करते हैं , तो कुछ संस्थाओं में इंटरव्यू के पहले ही डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन कर लिया जाता है और कुछ संस्थाओं में इंटरव्यू के बाद डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन किया जाता है। ऐसा क्यों ने बताया , कि यदि आप इस प्रक्रिया में आपका डॉक्यूमेंट सही होता है , तो ही आपको यह जॉब प्रदान कराई जाती है।

नोट :- यदि आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं , तो आवेदन करने से पहले आप अपने डॉक्यूमेंट की सत्यता की जांच स्वयं से कर ले।

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए महत्वपूर्ण तथ्य :-

यदि आप किसी भी सरकारी या प्राइवेट संस्था में जॉब प्राप्त करना चाहते हैं , तो आपको अपने डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए निम्न बिंदुओं को ध्यान रखना होगा।

  • आपके प्रमाण पत्र तथा आवेदन पत्र में आपका नाम
  • आपके माता पिता का नाम
  • आपकी एक फोटो

यदि आपके डॉक्यूमेंट में कुछ कमियां होती है , तो आप उन्हें सुधार कर लें , अन्यथा डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के समय यदि कोई त्रुटि आती है , जैसे कि आपका फोटो नहीं मैच हो रहा हो , आपके माता-पिता के नाम में कोई त्रुटि होती है , तो आप पर कानूनी कार्यवाही भी की जा सकती है।

Document verification में आपके डॉक्यूमेंट की आवश्यक दस्तावेज :-

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन करते समय आपके डॉक्यूमेंट में नीचे बताया गया निम्नलिखित दस्तावेजों का होना अति आवश्यक होता है।

  • आपके हाई स्कूल का प्रमाण पत्र और अंक प्रमाण पत्र
  • आपके इंटरमीडिएट कॉलेज का प्रमाण पत्र और अंक प्रमाण पत्र
  • स्नातक विद्यालय का प्रमाण पत्र और अंक प्रमाण पत्र ( यदि आपने स्नातक किया हो तब )
  • आपके स्नातकोत्तर विद्यालय का प्रमाण पत्र और अंक प्रमाण पत्र
  • आपका जाति प्रमाण पत्र , निवास प्रमाण पत्र
  • आपका आधार कार्ड , वोटर आईडी कार्ड
  • यदि आप विकलांग हैं , तो आपका मेडिकल सर्टिफिकेट
  • आपके नाम और औपचारिक परिवर्तन के मामले में राजपत्र अधिसूचना
  • यदि आप इससे पहले सैनिक रह चुके हैं , तो मूल निर्वहन प्रमाण पत्र होना चाहिए

यदि आपके पास यह सभी दस्तावेज होते हैं , तो आप अपने डॉक्यूमेंट में इन्हें अवश्य दाखिल करवाए , ताकि आपको अच्छे से अच्छा जॉब प्राप्त हो सके।

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन की संपूर्ण प्रोसेस :-

Document verification छात्र छात्राओं के प्रमाणपत्र का सत्यापन करने के लिए किया जाता है। कभी कभी ऐसा हो जाता है , कि कोई अभ्यार्थी नकली प्रमाण पत्र के माध्यम से नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं। धोखाधड़ी से बचने के लिए कंपनियों ने यह योजना चलाई है।

डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन करने के लिए एक समिति का गठन किया जाता है , यह समिति अभ्यर्थियों के डॉक्यूमेंट और भर्ती प्रक्रिया कि सभी प्रकार के नियमों से अच्छी तरीके से वाकिफ होती हैं , अर्थात इस समिति में भर्ती होने वाले लोग भर्ती प्रक्रिया के विशेषज्ञ होते हैं। इस समिति में केवल उन्हीं लोगों को चुना जाता है , जिनको डॉक्यूमेंट के असली और नकली की पहचान करने में विशेष जानकारी प्राप्त हो।

आपको इस प्रक्रिया के अंतर्गत अपने डॉक्यूमेंट को लेकर के इस समिति के पास जाना होता है , यह समिति यह निर्धारित करती है , कि आपका डॉक्यूमेंट असली है या नकली। यह समिति आपके डॉक्यूमेंट की अच्छी तरीके से जांच करती है , आवश्यकता पड़ने पर आपके सभी डॉक्यूमेंट यह समिति जमा कर लेती है

आपको उसी समय एक पेपर दे दी जाती है। डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बाद आपको बुलाया जाता है और यदि आपका डॉक्यूमेंट सही होता है , तो आपको वह नौकरी प्रदान कराई जाती है और आपका डॉक्यूमेंट गलत होता है , तो आपको निरस्त कर दिया जाता है।

निष्कर्ष :-

आज के इस लेख के माध्यम से हमने आपको बताया , कि डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन क्या होता है , यह कब होता है , इसकी संपूर्ण प्रोसेस क्या होती है इत्यादि। उम्मीद करता हूं कि यह लेख आपको अवश्य ही पसंद आया होगा , तो कृपया इस लेख को अपने प्रियजनों के साथ अवश्य साझा करें , ताकि उन्हें भी डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो सके।

FAQ :-

प्रश्न :- क्या डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए हमें कोई शुल्क देना होता है ?

उत्तर :- नहीं क्योंकि यह संस्था के द्वारा किया जाता है।

प्रश्न :- डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन क्यों किया जाता है ?

उत्तर :- क्योंकि आप की सत्यता की जांच हो सके।

प्रश्न :- डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन किसके द्वारा किया जाता है ?

उत्तर :- document verification संस्था में गठित किए गए एक समिति के द्वारा किया जाता है।

how to use digilocker app in hindi | 2020

digilocker – https://digilocker.gov.in/

Share on:
About Abhishek Maurya

मैं उत्तर प्रदेश वाराणसी डिस्ट्रिक्ट का रहने वाला हूं और मैं एक दिव्यांग हूं। मुझे अलग-अलग विषयों पर आर्टिकल लिखना बहुत अच्छा लगता है और इसी को मैंने अपना जुनून बनाया है। मैं पिछले 3 वर्षों से आर्टिकल लेखन का कार्य कर रहा हूं। आपको हमारे द्वारा लिखे गए लेख कैसे लगते हैं?, आप हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं। धन्यवाद Gmail ID - [email protected]

Leave a Comment