DM ko hindi mein kya kahate hain

DM ko hindi mein kya kahate hain के इस आर्टिकल में हम आपका स्वागत करते हैं। जिस तरह से पूरे देश को चलाने के लिए प्रधानमंत्री को नियुक्त किया जाता है और प्रधानमंत्री द्वारा पूरे देश की देखभाल की जाती है कि कहां क्या हो रहा है और कहां क्या होना चाहिए। देश के प्रधानमंत्री देश के अंदर होने वाली सभी गतिविधियों पर ध्यान रखते हैं और कोशिश करते हैं कि देश के सभी नागरिकों खुश रहे। बिल्कुल उसी तरह डीएम का काम भी होता है। बस फर्क इतना होता है प्रधानमंत्री पूरे देश को संभालते हैं जबकि पीएम एक जिले को संभालता है। 

DM पूरे जिले की देखभाल करता है और जिले में चल रहे हर कामों पर डीएम का नजर‌ रहता है। डीएम एक इंग्लिश शब्द अगर आप इस का फुल फॉर्म या फिर इसको हिंदी में जानते हैं तो अच्छी बात है लेकिन अगर आप नहीं जानते हैं तो घबराए हम आज के इस आर्टिकल के माध्यम से आपको बहुत ही अच्छी तरह बताएंगे कि dm ko hindi mein kya kahate hain। 

dm ko hindi mein kya kahate hain

दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं कि डीएम इंग्लिश शब्द है तो हम आपको बता दें कि डीएम का फुल फॉर्म डिस्टिक मजिस्ट्रेट होता है। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को हिंदी में जिला अधिकारी भी कहते हैं। जिला अधिकारी एक जिले का सबसे बड़ा अधिकारी होता है और उस जिले में जो भी काम होते हैं उसमें जिलाधिकारी की परमिशन होती है। 

आगर जिला अधिकारी किसी काम को करने के लिए परमिशन नहीं सकते हैं तो उस जिले में वह काम नहीं हो सकता है। चुकी जिला अधिकारी किसी जिला के सबसे बड़े अधिकारी होते हैं इसलिए उन्हें जिला का मुखिया भी कहा जाता है। जिला अधिकारी के कई अलग-अलग कार्य हैं हम उन कार्यों को इस आर्टिकल में नीचे जानेंगे। 

इसे भी जाने – SDM Meaning in Hindi – एसडीएम कौन होता है

डीएम के क्या कार्य होते हैं 

अब आप समझ गए होंगे कि dm ko hindi mein kya kahate hain तो अब आपके मन में यह प्रश्न भी उठ रहा होगा कि आखिर डीएम का क्या काम होता है? डीएम एक जिला के सबसे बड़े पदाधिकारी होते हैं तो उनके जिम्में क्या-क्या काम रहता है। तो आइए नीचे हम बहुत ही अच्छी तरह जानते हैं कि डीएम का क्या क्या कार्य होता है। 

  • जिला अधिकारी का मुख्य काम यही होता है कि वह जिला में कानून व्यवस्था को अच्छी तरह से बनाए रखने का प्रयास करें। 
  • इसके साथ-साथ जिलाधिकारी का यह भी काम होता है कि एक पूरे वर्ष में उनके जिले में कितने अपराध हुए सारे अपराधी की लिस्ट सरकार को सबमिट करें। 
  • जिला अधिकारी को सारे पुलिस चौकी पर घूम घूम कर निरीक्षण का काम करना भी होता है ताकि उन्हें यह पता चल सके कि किस चौकी पर क्या काम हो रहा और क्या होना चाहिए। 
  • जिला अधिकारी का काम यह भी होता है कि वो जिले में चल रहे सभी कार्यों की सूची बनाकर मंत्रिमंडल मे साझा करें। 
  • जब जिला के मंडल पदाधिकारी उपस्थित नहीं होते हैं तो जिला अधिकारी मंडल पदाधिकारी के पद पर नियुक्त हो‌ कर उनके सारे कार्य को देखते हैं। 
  • जिला अधिकारी का यह भी कार्य होता है कि वह अपने सभी मजिस्ट्रेट का चयन करे और सही जगह पर सही कार्य करने वाले को चुने। 

डीएम बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता क्या होनी चाहिए 

अगर आप चाहते हैं कि आप भी एक डीएम बने तो आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि डीएम बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता क्या होनी चाहिए। क्योंकि आप जब भी डीएम बनने के लिए आवेदन देने जाएंगे तो आपसे आपका शैक्षणिक योग्यता मांगा जाएगा। हम आपको बता दें कि डीएम बनने के लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी बेहद जरूरी है। 

अगर आप ग्रेजुएशन से ज्यादा तक की पढ़ाई किए हैं तब तो कोई दिक्कत नहीं है। लेकिन अगर आप ग्रेजुएशन से कम पढ़े लिखे हैं तो आपको डीएम बनने के लिए फॉर्म भरने की अनुमति नहीं मिलेगी। आप पूरे भारत में किसी भी बोर्ड से ग्रेजुएशन की डिग्री कर डीएम बनने के लिए ऑनलाइन फॉर्म भर सकते हैं। 

इसे भी जाने – Tahsildar Ka Kya Kaam Hota Hai – तहसीलदार कैसे बने

डीएम कौन सा परीक्षा पास करना पड़ता है 

आपके मन में यह सवाल उठ रहा होगा कि डीएम कौन व्यक्ति बनता है यानी कि डीएम बनने के लिए हमें कौन-कौन से परीक्षा पास करने होते हैं। अगर आप जानना चाहते हैं कि डीएम बनने के लिए हमें कौन-कौन से परीक्षा पास करने होते हैं तो चलिए हम आपको बताते हैं कि आपको डीएम बनने के लिए कौन-कौन से एग्जाम पास करने होते हैं। 

अगर आप डीएम बनना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको एक प्रारंभिक परीक्षा देना पड़ता है। उस परीक्षा में आपसे कुछ निश्चित समय में कुछ सवालों को बनाने का मौका दिया जाएगा अगर आप इस परीक्षा में पास होते हैं तो आपको आगे प्रोसेस करने का मौका मिलेगा। लेकिन अगर आप इस परीक्षा में पास नहीं होते हैं तो आपको यहीं से रिजेक्ट कर दिया जाएगा। 

अगर आप प्रारंभिक परीक्षा पास कर लिए हैं तो उसके बाद आपको मुख्य परीक्षा की तैयारी करने के लिए कुछ समय दिया जाएगा। ताकि आप अपनी तैयारी अच्छे से कर ले और उसके बाद आपसे मुख्य परीक्षा लिया जाएगा। उस मुख्य परीक्षा में भी आपको कुछ निश्चित समय दिया जाएगा और उस निश्चित समय में कुछ निश्चित सवाल पूछा जाएगा। अगर आप इस मुख्य परीक्षा में पास हो जाते हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए टाइम दिया जाएगा कि आपका इंटरव्यू इस तारीख को होगा। लेकिन अगर आप इस मुख्य परीक्षा में पास नहीं होते हैं तो इसके बाद आपको इंटरव्यू देने का मौका नहीं मिलेगा। 

मुख्य परीक्षा में पास होने के बाद आपको एक मैसेज दिया जाएगा और उस मैसेज में आपको 1 तारीख बताया जाएगा। जिस तारीख को आपका इंटरव्यू होगा उस इंटरव्यू में कुछ एक्सपर्ट्स आपसे कुछ सवाल जवाब करेंगे। अगर आप उनके सवालों का जवाब अच्छे तरीके से देते हैं और उनको लगता है कि आप जिला अधिकारी पद के लिए सही है तो वह आपका चयन करेंगे। लेकिन अगर उनको लगेगा कि आपको अभी और तैयारी करने की जरूरत है तो वह आपको रिजेक्ट भी कर सकते हैं। 

इंटरव्यू में पास होने के कुछ दिनों के बाद आपके पास एक मैसेज आएगा और उस मैसेज में आपको ज्वाइन करने की तारीख बताई जाएगी। 

हमने आपको ऊपर जो प्रोसेस बताया है इसी प्रोसेस के जरिए जिला पदाधिकारी का चयन किया जाता है। अगर आपको भी लगता है कि आप जिला पदाधिकारी के लिए सही है तो आप भी जिला पदाधिकारी बनने के लिए फॉर्म अप्लाई कर सकते हैं। 

Frequently Asked Questions (FAQ)

Q. डीएम को हिंदी में क्या कहते हैं? 

डीएम को हिंदी में जिला अधिकारी कहते हैं। 

Q. डीएम का फुल फॉर्म क्या होता है? 

डीएम का फुल फॉर्म डिस्टिक मजिस्ट्रेट होता है। 

Q. डीएम बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता क्या होनी चाहिए?

अगर आप डीएम बनना चाहते हैं तो आपकी शैक्षणिक योग्यता रिजर्वेशन होनी चाहिए। 

Q. डीएम को और किस नाम से जाना जाता है? 

डीएम को जिला का मुखिया या फिर जिला मजिस्ट्रेट के नाम से भी जाना जाता है। 

निष्कर्ष 

दोस्तों आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हमने जिला अधिकारी यानी डीएम के बारे में लगभग सभी जानकारी प्राप्त की जैसे कि dm ko hindi mein kya kahate hain डीएम का कार्य क्या होता है और डीएम बनने के लिए शैक्षणिक योग्यता कितनी होनी चाहिए? इसके साथ साथ हमने यह भी जाना कि डीएम बनने का प्रोसेस क्या होता है? उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे यह आर्टिकल पसंद आया होगा और हमने इस आर्टिकल में जो भी जानकारी दी है वह आपको अच्छे से समझ में आ गई होगी। 

तो अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा और इसमें दी गई सारी जानकारी समझ में आ गई तो आप इसे अपने दोस्तों रिश्तेदारों और अपने सोशल मीडिया पर शेयर करना ना भूले। आप इस आर्टिकल से संबंधित कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो कमेंट करके पूछ सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.